नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona Virus) पूरी दुनिया में कहर बरपा रहा है. हर उम्र के लोग इसका शिकार हुए हैं. बुजुर्ग बड़ी संख्या में इस जानलेवा वायरस के चलते जान गंवा चुके हैं. भारत में अब तक तीन मौतें कोरोना से हुई हैं, इन सभी की उम्र 60 से ऊपर ही थी. यानी बुजुर्गों को कोरोना अधिक चपेट में ले रहा है. वहीं, एक स्टडी में एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. इस स्टडी में बताया गया है कि कौन से ब्लड ग्रुप के लोग कोरोना वायरस से ज़्यादा शिकार हुए हैं. Also Read - Work From Home Health Tips: वर्क फ्रॉम होम से शरीर में होने लगी हैं ये परेशानियां? इस तरह से करें कंट्रोल

इस नर्स को दुनिया कर रही सलाम, Corona के खिलाफ लड़ते-लड़ते बोलीं- मैं जवान हूं लेकिन… Also Read - चुनावी रैलियों के बीच बंगाल में कोरोना के रिकॉर्ड 8, 419 नए मामले, 24 घंटे में 28 लोगों की मौत

डेली मेल की एक खबर के अनुसार, चीन की एक एकेडमी द्वारा स्टडी की गई है. इस स्टडी के अनुसार जिन लोगों का ब्लड ग्रुप A (Blood Group A) है, वह कोरोना वायरस के शिकार ज़्यादा हुए हैं. जबकि O ब्लड ग्रुप (O Blood Group) वाले मरीजों की संख्या कम है. स्टडी कहती है कि O ब्लड ग्रुप वालों की संख्या 34 प्रतिशत है, जबकि A ब्लड ग्रुप वालों की तादाद 32 प्रतिशत है. इसके बाद भी A ब्लड ग्रुप वाले 41 प्रतिशत लोग कोरोना का शिकार हुए हैं, जबकि O ब्लड ग्रुप वाले मरीजों की संख्या 25 प्रतिशत है. मौतें भी A ब्लड ग्रुप वालों की ही ज़्यादा हुई हैं. Also Read - दिल्ली में 15 दिन का लॉकडाउन लगाने की मांग, व्यापारियों ने कहा- तुरंत बंद करें राजधानी

MLA पति के साथ बाइक पर घूमती दिखती हैं ये सांसद, कोरोना को लेकर कर रही हैं जागरूक

चीन के शहर वुहान की जनसँख्या एक करोड़ 10 लाख है. इनमें 34 प्रतिशत लोगों का ब्लड ग्रुप A है. शोधकर्ताओं ने 2173 मामलों को अध्ययन किया, इनमें 206 लोग वह भी थे, जिनकी कोरोना के चलते मौत हुई. ये स्टडी हुबेई के तीन अस्पतालों में की गई. पाया गया कि मरने वाले 206 मरीजों में से 85 का ब्लड ग्रुप A था. A ब्लड ग्रुप वालों की संख्या कुल मरने वालों की संख्या का 41 प्रतिशत पाया गया. जबकि O सहित अन्य ब्लड ग्रुप बाकी 59 प्रतिशत थे.

लगातार सेक्स करने से ‘मर’ जाता है कोरोना वायरस, पूरी दुनिया में फैली ये खबर

इतना ही नहीं कोरोना का शिकार होने वाले सभी मरीजों के ब्लड ग्रुप का डाटा भी निकाला गया. इससे पता चला कि O ब्लड ग्रुप वाले मरीजों की संख्या 26 प्रतिशत है, जबकि A ब्लड ग्रुप वाले मरीजों की संख्या 38 प्रतिशत है.

हालांकि अभी ये सीधे तौर पर नहीं कहा गया है कि कोई ख़ास ग्रुप के लोग ब्लड ग्रुप की वजह से कोरोना की चपेट में ज़्यादा आ रहे हैं. अध्ययन जारी है. इस अध्ययन से मालूम होता है कि B, AB ब्लड ग्रुप वाले मरीजों की संख्या अपेक्षाकृत कम है. इसका डाटा भी आना अभी बाकी है. अध्ययन के अनुसार, जनसंख्या देखें तो O ब्लड ग्रुप वालों की तादाद 34 प्रतिशत है, जबकि 32 प्रतिशत जनसंख्या का ब्लड ग्रुप A है.

पाकिस्तान: इमरान खान ने कहा- हम अमीर नहीं, कोरोना से बचे तो बच्चे भूख से मर जाएंगे, इसलिए…

Coronavirus Myth & Truth: एल्‍कोहल से मर जाता है कोरोना वायरस, ‘पीने’ वालों को नहीं होती ये बीमारी!