नई दिल्ली: कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. दुनियाभर में कोरोनावायरस मामलों की संख्या 3.53 करोड़ के पार पहुंच गई है जबकि 1,042,600 लोग इस बीमारी से जान गंवा चुके हैं. इसी बीच अब यूएस सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने कहा है कि कोरोना वायरस हवा के माध्यम से भी फैलता है और कभी-कभी यह वायरस घंटों तक हवा में मौजूद रहता है. बता दें कि एजेंसी ने कुछ हफ्ते पहले भी इसी तरह की एक चेतावनी प्रकाशित की थी, लेकिन वायरस फैलने के बारे में बहस छिड़ जाने के बाद इसे हटा दिया गया. सीडीसी ने अब फिर से इन दिशानिर्देश में संशोधन किया है.Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

सोमवार को सीडीसी की तरफ से अपडेट की गई जानकारी से उस रिपोर्ट की पुष्टि होती है, जिसमें कहा गया है कि असामान्य हालात में कुछ मामलों में पॉजिटिव व्यक्ति से छह फीट दूर रहने वाले व्यक्ति भी संक्रमित हुए हैं. सीडीसी ने कहा कि बंद जगहों पर, जहां अक्सर गीत संगीत या शारीरिक व्यायाम जैसे कार्यक्रम होते रहते हैं, वहां हवा से संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा रहता है. Also Read - सावधान! स्मार्टफोन से भी फैल सकता है कोरोनावायरस, ऐसे करें सैनिटाइज और इन बातों को रखें खास ध्यान

इस बीच, अमेरिकी वैज्ञानिकों के एक समूह ने सोमवार को मेडिकल जर्नल साइंस में प्रकाशित एक खुले पत्र में भी चेतावनी दी थी कि हवा में मौजूद एरोसोल लिंचिंग कोरोनवायरस के प्रसारण का एक प्रमुख स्रोत हो सकता है. Also Read - Covid-19: देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, वैक्सीन से हुआ बड़ा फायदा