Covid-19 Risk: एक नए अध्ययन के अनुसार, जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान कोविड संक्रमित होती हैं, उनमें प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने का काफी अधिक जोखिम होता है. यह बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण है. प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है.Also Read - Coronavirus cases In India: फिर डरा रहे कोरोना के आंकड़े, एक दिन में 585 लोगों की मौत, 13,451 लोग हुए संक्रमित

अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण वाली महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है. Also Read - COVID Vaccination drive for Chhath Puja devotees: छठ व्रतियों के लिए खास टीकाकरण अभियान की शुरुआत

वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में आणविक प्रसूति और आनुवंशिकी के प्रोफेसर रॉबटरे रोमेरो ने कहा कि यह जुड़ाव सभी पूर्वनिर्धारित उपसमूहों में उल्लेखनीय रूप से सुसंगत था. इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण गंभीर विशेषताओं, एक्लम्पसिया और एचईएलएलपी सिंड्रोम के साथ प्री-एक्लेमप्सिया की बाधाओं में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ा है. Also Read - COVID-19 vaccination: टीकाकरण को रफ्तार देने के लिए आज राज्यों के स्वास्थ मंत्रियों से मीटिंग करेंगे मंडाविया

एचईएलएलपी सिंड्रोम गंभीर प्री-एक्लेमप्सिया का एक रूप है, जिसमें हेमोलिसिस (लाल रक्त कोशिकाओं का टूटना), ऊंचा लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट काउंट शामिल हैं.

टीम ने पिछले 28 अध्ययनों की समीक्षा के बाद अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें 790,954 गर्भवती महिलाएं शामिल थीं, जिनमें 15,524 कोविड -19 संक्रमण का निदान किया गया था.

रोमेरो ने कहा कि ऐसेम्प्टोमैटिक और रोगसूचक दोनों तरह के संक्रमण ने प्री-एक्लेमप्सिया के खतरे को काफी बढ़ा दिया है.

“फिर भी, प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने की संभावना रोगसूचक बीमारी वाले रोगियों में स्पशरेन्मुख बीमारी वाले लोगों की तुलना में अधिक है.”

उच्च रक्तचाप के अलावा प्री-एक्लेमप्सिया चेतावनी के संकेतों में सिरदर्द, चेहरे और हाथों में सूजन, धुंधली दृष्टि, सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ शामिल हैं.

प्री-एक्लेमप्सिया फाउंडेशन के अनुमानों के अनुसार, यह स्थिति हर साल 76, 000 मातृ मृत्यु और 500,000 से अधिक शिशु मृत्यु के लिए जिम्मेदार है.

शोधकतार्ओं ने कहा कि स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों को एसोसिएशन के बारे में पता होना चाहिए और प्री-एक्लेमप्सिया का जल्द पता लगाने के लिए संक्रमित गर्भवती महिलाओं की बारीकी से निगरानी करनी चाहिए.

अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी-मातृ-भ्रूण चिकित्सा में प्रकाशित एक अलग अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान एमआरएनए कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त करने वाली महिलाएं अपने बच्चों को उच्च स्तर के एंटीबॉडी पास करती हैं.

36 नवजात शिशुओं, जिनकी माताओं को गर्भावस्था के दौरान फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्न कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त हुई थी, उसके अध्ययन से पता चला कि 100 प्रतिशत शिशुओं में जन्म के समय सुरक्षात्मक एंटीबॉडी थे.
(एजेंसी से इनपुट)