Covid Vaccine Latest Updates: देश में जारी कोरोना संकट के बीच इसके वैक्सीन (Covid Vaccine) को लेकर तमाम तरह के शोध जारी हैं. भारत में भी कई वैक्सीन परीक्षण के अलग-अलग चरण में हैं. उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही कोरोना की कोई कारगर और सुरक्षित वैक्सीन आएगी. सरकार ने वैक्सीन को कम समय में देश के हर नागरिक तक पहुंचाने की रूपरेखा भी तैयार कर ली है. वहीं, दुनिया के कई देशों में कोविड वैक्सीन का परीक्षण चल रहा है. Also Read - Corona Vaccine Update: सीरम इंस्टीट्यूट का दावा- सुरक्षित है 'COVISHIELD', वॉलंटियर के आरोपों को गलत बताया...

उधर, अमेरिकी फार्मा कंपनी Moderna ने बताया है कि उसकी कोरोना वायरस वैक्सीन (Moderna Covid-19 Vaccine) के लिए सरकारों को एक खुराक की कीमत 25 (लगभग 1800 रुपये) से 37 (2800 रुपये) डॉलर देनी होगी. कंपनी के सीईओ स्टेफन बैंसल ने यह जानकारी दी है. इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि वैक्सीन की कीमत फ्लू के शॉट के बराबर होगी जो 10 से 50 डॉलर के बीच आता है. Also Read - Corona vaccine in India: कोरोना टीका विकसित करने में शामिल तीन टीमों से बातचीत करेंगे पीएम मोदी

बता दें कि वैक्सीन के लिए यूरोपियन कमीशन Moderna के साथ डील करना चाहता है. लाखों खुराकों के लिए 25 डॉलर से कम दाम पर खरीद को लेकर डील की जा रही है. बैंसल ने बताया है कि अभी कुछ फाइनल नहीं हुआ है लेकिन बातचीत जारी है. Also Read - PM Modi Visit: कोरोना वैक्सीन की समीक्षा करने अहमदाबाद के Zydus Biotech Park पहुंचे पीएम मोदी

इससे पहले Moderna ने बताया था कि उसकी वैक्सीन कोरोना को रोकने में 94.5% असरदार है. आखिर स्टेज के क्लिनिकल ट्रायल से मिले अंतरिम डेटा के आधार पर यह ऐलान किया गया था. Moderna के अलावा सिर्फ Pfizer ने इतने सफल नतीजे दिए हैं. Moderna की वैक्सीन भी उसी mRNA तकनीक पर आधारित है जिस पर Pfizer की वैक्सीन.

उधर, फाइजर ने शुक्रवार को औपचारिक रूप से अमेरिकी नियामक से अपने कोविड-19 टीके (Pfizer Covid Vaccine) का आपात इस्तेमाल की अनुमति मांगी है. फाइजर ने यह कदम उस घोषणा के कुछ दिन बाद उठाया है, जिसमें कहा गया था कि उसके तथा उसकी जर्मन सहयोगी बायोएनटेक द्वारा विकसित कोविड-19 का टीका हल्के और गंभीर लक्षण वाले मरीजों के इलाज में 95 प्रतिशत तक प्रभावी है.

आपको बता दें कि भारत में भी इस समय 5 वैक्सीन परीक्षण के अलग-अलग दौर से गुजर रहे हैं. केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया है कि देश में कोरोना के जिन पांच टीकों के परीक्षण चल रहे हैं, उनसे सबसे ज्यादा उम्मीदें हैं. इसके अलावा सरकार दूसरे देशों के टीका निर्माताओं के संपर्क में भी है, जिनके परीक्षण अंतिम चरण में हैं.