Ayurveda Medicine ‘Astha-15’ Clinical Trial: डालमिया समूह की कंपनी डालमिया हेल्थकेयर ने कोविड-19 के इलाज के लिए विभिन्न आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी को लेकर बनायी गई दवा ‘आस्था-15’ का क्लिनिकल परीक्षण शुरू किया है. डालमिया हेल्थकेयर ने बृहस्पतिवार को एक बयान में यह जानकारी दी. उसने कहा कि उसे क्लिनकल ट्रायल रजिस्ट्री (सीटीआर) से इसकी मंजूरी मिल गयी है और तीसरे चरण के परीक्षण के लिये सभी नियामकीय दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा.Also Read - Coronavirus cases In India: 1 दिन में कोरोना से लगभग 43 हजार लोग हुए संक्रमित, 533 लोगों की हुई मौत

सीटीआर, आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल स्टैटिक्स द्वारा प्रबंधित संस्थान है. समूह की अनुसंधान एवं विकास इकाई डालमिया सेंटर फॉर रिसर्च एंड डेवलपमेंट (डीसीआरडी) गहन शोध के बाद 15 औषधियों का एक ‘पालीहर्बल कॉम्बिनेशन’ बनाया, जिसे आस्था-15 का नाम दिया गया है. इससे पहले, इसका चेन्नई के सरकारी अस्पताल में मरीजों पर इसके प्रभाव का अध्ययन किया गया है. उस अध्ययन में इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव सामने नहीं आया. Also Read - पति की अंतिम इच्छा पूरी करने के लिए महिला ने 1 करोड़ रुपए का मंदिर में किया गुप्‍त दान, कोरोना से हुई थी मौत

डालमिया ग्रुप ऑफ कंपनीज़ के चेयरमैन संजय डालमिया ने कहा, ‘‘हम अपने अत्यधिक प्रभावशाली आयुर्वेदिक मिश्रण का मानवों पर परीक्षण कर रहे हैं. यह कोविड-19 के मरीजों का इलाज करने में मदद कर सकता है. हमारी दवाई के सफल मानव परीक्षण से पूरी दुनिया में न केवल इस संक्रामक वायरस का प्रभाव कम होगा, बल्कि इससे अन्य चिकित्सा विधियों के मुकाबले आयुर्वेद की प्रतिष्ठा भी स्थापित होगी, जो हमारे देश की प्राचीन चिकित्सा प्रणाली है.’’ Also Read - ब्रिटेन ने रेड लिस्ट से भारत के नाम को हटाया, अब यात्रियों को कोरोना प्रतिबंधों में मिलेगी ढील, जानें नियम