नई दिल्‍ली: दिल्‍ली में डेंगू के मामले हर साल सामने आते हैं. ये बीमारी भयंकर तौर पर अपने पांव कब फैलाती है पता ही नहीं चलता. आपको याद होगा ही साल 2015. जब दिल्‍ली में हजारों लोग डेंगू की चपेट में आ गए थे.

अब तीन साल बाद फिर से वैसी स्थिति ना हो इसके लिए सरकार ने एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. पर अस्‍पतालों में मरीज आने शुरू हो गए हैं.

Dengue

टाइम्‍स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, जनवरी से अब तक डेंगू के 43 केस सामने आए हैं. इनमें से जुलाई में 13, जून में 8, अप्रैल में 2, मार्च में 1, फरवरी में 3 और जनवरी में 6 मामले सामने आए थे.

दरअसल, मानसून में डेंगू का खतरा बढ़ जाता है. एडीज मच्छर के काटने पर होने बीमारी डेंगू महामारी की तरह फैलता है. ये पहले तो सामान्य बुखार की तरह ही लगता है मगर इसका प्रभाव शरीर पर बहुत खरतरनाक तरीके से होता है. अगर इसका इलाज सही तरह से नहीं किया गया तो मौत भी हो सकती है.

पेट के निचले हिस्से में दर्द को नजरअंदाज ना करें महिलाएं, हो सकता है पेल्विक कंजेशन सिंड्रोम…

डेंगू के एडीज मच्छर दिन में काटते हैं, इसलिए दिन के समय भी मच्छर से खुद को बचाना जरूरी होता है. इस रोग का पनपना जून के महीने से शुरू होता है और मॉनसून के महीने में अपना चरम प्रकोप दिखाना शुरू करता है.

ऐसे करें बचाव-
– बुखार आने की स्थिति में डॉक्टर की सलाह पर रक्त की जांच कराएं.
– सोने के लिए मच्छरदानी का इस्तेमाल करें.
– घर में कहीं पानी एकत्र‍ित ना होने दें. अगर कहीं पानी है तो उसे तुरंत सुखाएं.
– 30 मिनट तक घर में कपूर जलाकर रखें और उसे जलाते वक़्त सभी खिड़कियां और दरवाजे बंद कर दें. इससे डेंगू के मच्छर मर जाएंगे जो आपके घर के कोनों में छुपे होंगे.

चूहों की वजह से फैलता है ये खतरनाक वायरल बुखार, ऐसे करें अपनों का बचाव…

– स्वास्थ्य कार्यकर्ता आने पर सहयोग करें, ताकि वह लार्वा रोधी कार्य पायरेथम तथा टेमीफॉस का स्प्रे कर सकें.
– घर की खिड़कियों और दरवाजे पर तुलसी का पौधा लगाएं.
– घर में कूलर, गमले, छत, पुराने टायर, टूटे -फूटे बर्तन में पानी जमा ना होने दें.
– पूरी बांह के कपड़े पहनें.
– बुखार आने पर केवल पेरासीटामाल की गोली लें.

हेल्थ की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.