लंदन: स्वीडन के शोधार्थियों ने मधुमेह पीड़ित लोगों के लिए एक माइक्रोनीडल पैच डिजाइन किया है, जिससे आप दर्द महसूस किए बिना पूरे दिन अपने ग्लूकोज स्तर की जांच कर पाएंगे. लगातार जांच रक्त में शर्करा की मात्रा को कम करने का सुरक्षित और असरदार तरीका है. यह नया शोध उपयोगकर्ताओं को दिनभर अपने ग्लूकोज स्तर की पूरी जानकारी और गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया से बचने में मदद करेगा. Also Read - Diabetes Diet Thepla: सेहत का ख्याल रखते हुए घर पर बनाएं स्पेशल करेला थेपला, आएगा स्वाद जानें आसान रेसिपी

Also Read - Diabetes And Coronavirus: डायबिटीज के मरीज को हो जाए कोरोना, तो क्या होगा?

Winter Tips: सर्दियों में हार्ट अटैक की वजह क्‍या है? डॉक्‍टर्स की एडवाइजरी पढ़ें, जानें कैसे रखें दिल का ख्‍याल… Also Read - DIWALI 2020: इस फेस्टिव सीजन डायबिटीज के मरीज अपनाएं ये टिप्स, नहीं पड़ेगा सेहत पर बुरा असर

लेकिन इस समय उपयोग किया जाने वाला ग्लूकोज मॉनिटरिंग सिस्टम (सीजीएमएस) असहज करनेवाला है, क्योंकि इसमें त्वचा में न्यूनतम 7 मिमी की सुई डालने की जरूरत होती है. अपने आकार के कारण यह केवल वसा ऊतक का ही माप लेती हैं जो सबसे आदर्श स्थान नहीं है. स्वीडन में केटीएच रॉयल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं द्वारा विकसित किया गया नया उपकरण इससे 50 गुना छोटा है. वहीं, इस उपकरण को बाजू में लगाने पर पैच के संयोजन और अत्यंत छोटे तीन इलेक्ट्रोड एंजाइमैटिक सेंसर रक्त शर्करा के स्तर को सही और गतिशील रूप से ट्रैक करने में सक्षम पाए गए.

ALERT: महिलाएं सेहत को लेकर रहें एलर्ट, इस बदलाव से होते हैं दो तरह के Cancer

बिना दर्द पहुंचाए सेवा देने पर केंद्रित है शोध

संस्थान में इस अध्ययन के शोथार्थी फेडेरिको राइब ने बताया कि हमारा शोध उपयोगकर्ताओं को बिना दर्द पहुंचाए सेवा देने पर केंद्रित है. हम सीधे त्वचा में मौजूद बहुत छोटे रक्त वाहिकाओं के एक समूह को मापते हैं और इसमें कोई तंत्रिका रिसेप्टर्स नहीं हैं. (एजेंसी से इनपुट)

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.