पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से अब सबसे अधिक कोई प्रभावित है तो वह अमेरिका. यहां कोरोना के मामले लगातार बढ़ते हुए देखा जा रहा है. मार्च के अंत में न्यूयॉर्क सिटी के माध्यम से कोरोना वायरस फैलने के कारण माउंट सिनाई अस्पताल के डॉक्टरों ने देखा कि मरीजों के खून में कुछ अजीब हो रहा है. विभिन्न अंगों के डॉक्टरों द्वारा विभिन्न अंगों में रक्त गाढ़ा होने और थक्के जमने के संकेत पाए गए थे. नेफ्रोलॉजिस्टों ने देखा कि गुर्दे के डायलिसिस कैथेटर्स के दौरान बल्ड थक्के के साथ प्लग हो रहा है. मैकेनिकल वेंटिलेटर पर कोविद -19 रोगियों की निगरानी करने वाले पल्मोनोलॉजिस्ट ने देखा है कि फेफड़े के हिस्से अजीब तरह से रक्तहीन थे. वहीं न्यूरोसर्जन्स ने पाया कि रक्त के थक्कों के कारण कम उम्र के लोगों में स्ट्रोक के मामलों में वृद्धि हुई है. Also Read - महाराष्‍ट्र में कोरोना से आज 85 मौतें के साथ अब तक करीब 2000 मृत, कुल 60 हजार पॉजिटिव केस

माउंट सिनाई न्यूरोसर्जन डॉ जे मोको ने कहा, “यह बहुत ही चौंकाने वाला है कि इस बीमारी के कारण कितने थक्के बनते हैं,” यह बताते हुए कहा कि कुछ डॉक्टरों को लगता है कि कोविद -19 के कराण फेफड़ों की बीमारी अधिक है. मार्च के मध्य से शुरू होने वाले तीन हफ्तों में, मोको ने मस्तिष्क में बड़े ब्लड क्लौड के 32 स्ट्रोक रोगियों को देखा है, लेकिन उनका मानना है कि इस अवधि में मरीजों की सामान्य संख्या में दोगुना का बढ़ोतरी हुई है. उन्होंने पांच असामान्य युवा को देखा. इनकी उम्र 49 वर्ष से कम थी और न ही कोई स्ट्रोक का रिस्क फैक्टर नहीं था. उनमें सबसे कम उम्र का केवल एक व्यक्ति 31 वर्ष था. इनका उम्र 32 रोगियों में से सबसे कम था लेकिन उनमें कोरोना के पॉजिटिव लक्षण पाए गए. Also Read - ICC Meeting: टी20 विश्‍व कप 2020 के भविष्‍य को लेकर फैसला 10 जून तक स्‍थगित

अस्पताल के अध्यक्ष डॉ डेविड रीच ने कहा कि ब्लड क्लॉटिंग के किसी भी सबूत के बिना पहले ही मरीजों को अब ब्लड पतला करने वाली दवा की उच्च खुराक दी जा रही है. शायद, शायद हो सकता है कि अगर आप खून के थक्के प्रिवेंट करते हैं, तो आप बीमारी को गंभीर बनने से रोक सकते हैं. नए प्रोटोकॉल का उपयोग कुछ उच्च जोखिम वाले रोगियों पर नहीं किया जाएगा क्योंकि पतले मस्तिष्क और अन्य अंगों में रक्तस्राव हो सकता है. Also Read - दिल्‍ली एम्स में अभी तक 195 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, 2 की जान गई