माइग्रेन से पीड़ित लोगों को कान बजने की शिकायत के साथ-साथ कान के भीतरी हिस्से में कोई बीमारी भी हो सकती है. यह बात एक हाल ही में एक रिसर्च में सामने आई है. माइग्रेन में आधे सिर में दर्द की शिकायत होती है. शोधकर्ताओं ने पाया कि कान की तंत्रिका में खराबी के कारण माइग्रेन की शिकायत हो सकती है. खासतौर से माइग्रेन के मरीजों में कान बजने की शिकायत ज्यादा होती है.

373914-migraine

ताईवान के डलिन त्जू ची अस्पताल के जुएन हाउर व्हांग समेत शोधकर्ताओं ने कहा, “शोध से कान की तंत्रिका यानी कॉक्लीयर माइग्रेन के बारे में पता लगाने में मदद मिल सकती है.” कान की तंत्रिका संबंधी समस्या से कान का भीतरी हिस्सा प्रभावित होता है. इसी हिस्से में झनझनाहट या कान बजने की शिकायत होती है जिसे सेंसोरीन्यूरल हियरिंग इंपेयरमेंट कहते हैं. इससे अचानक बहरापन भी पैदा हो सकता है.

sdttui1 copy

यह शोध जामा ऑटोलेरिंगोलोजी जर्नल में प्रकाशित हुआ है. शोध में शामिल लोगों में 1,056 मरीज शामिल थे, जिन्हें माइग्रेन की शिकायत थी. इसके अलावा टीम में 4,224 लोग ऐसे थे जिन्हें माइग्रेन की शिकायत नहीं थी. माइग्रेन के मरीजों में कान की समस्या माइग्रेन रहित लोगों की तुलना में 12.2 फीसदी अधिक पाई गई.

माइग्रेन के लक्षण इस प्रकार हैं –

-सिर में फड़कता हुआ माइग्रेन दर्द ज्यादातर सिर के एक हिस्से से शुरू होता है.
-जो लोग माइग्रेन के सिरदर्द से पीड़ित हैं वे आमतौर पर नियमित गतिविधियों को करने में असमर्थता, आंखों में दर्द, मतली और उल्टी भी अनुभव करते हैं.
-वे प्रकाश, ध्वनि और गंध परिवर्तनों के प्रति अति संवेदनशील हो सकते हैं.
-दिन भर बेवजह उबासी आना भी माईग्रेन का लक्षण हो सकता है.
-माइग्रेन सिरदर्द से पीड़ित लोगों को ऑरा (Aura) का अनुभव होता है. उन्हें संवेदना की अस्थाई कमी या पिंस और सुईया चुभने की भावना महसूस होती है.
-माईग्रेन का दर्द होने पर नींद अच्छे से नहीं आती है. थकान महसूस होती है लेकिन नींद नहीं आती है.
-माईग्रेन के दौरान आंखों में भी भयानक दर्द होता है. पलकें झपकाने में भी बहुत जलन होती है.
-सिरदर्द के साथ मितली, उल्टी आना भी माईग्रेन के लक्षण होते हैं.
-माईग्रेन के दौरान मूड में परिवर्तन बहुत तेजी से होता है. कुछ मरीज़ अचानक बिना किसी के कारण बहुत ही उदास महसूस करते हैं या कभी ज्‍यादा उत्साहित हो जाते हैं.
-माइग्रेन का दर्द होने से पहले, कुछ लोगों की खाद्य पदार्थों के लिए लालसा बढ़ जाती है.