मुंबई: देश और दुनिया में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इस बीमारी का अभी तक कोई भी प्रमाणिक इलाज नहीं आया है. लेकिन इसी बीच कोरोना के लिए एक वैकल्पिक इलाज के तौर पर प्लाज्मा थेरेपी को देख गया था. इस थेरेपी का इस्तेमाल कई राज्यों में मरीजों पर किया गया था. इससे कई लोग ठीक भी हुए थे. कुछ जगहों पर इस थेरेपी का सकारात्मक नतीजे देखने को मिल रहे हैं लेकिन महाराष्ट्र से इसको लेकर एक बुरी खबर आ रही है. प्लाज्मा थेरेपी लेने वाले पहले ही मरीज की कोरोना वायरस से मौत हो गई है. Also Read - CBSE बोर्ड के छात्रों के लिए दिशानिर्देश जारी, नजदीकी विद्यालयों में जमा कराएं रिपोर्ट

खबरों के मुताबिक बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण 53 वर्षीय व्यक्ति को मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस व्यक्ति के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी की मदद ली गई थी. महाराष्ट्र का यह पहला ऐसा कोरोना संक्रमित मामला था जिसका इलाज इस थेरेपी की मदद से किया जा रहा था. लीलावती अस्पताल के सीईओ डॉ. रविशंकर ने बताया कि 29 अप्रैल को इलाज के दौरान इस मरीज की मौत हो गई थी. Also Read - Covid-19 Update in India: देश में 24 घंटे में रिकॉर्ड 8,380 केस सामने आए, मृतकों की संख्या 5 हजार के पार


अस्पताल के सुत्रों की मानें तो मरीज की हालत बहुत ही खराब थी. मरीज को तुरंत आईसीयू में रखा गया था. उसका इलाज करने का प्रयास किया जा रहा था. इलाज में देरी के कारण मरीज को सांसे लेने में दिक्कत होनी लगी थी. वह एक्यूट रेस्पीरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम और निमोनिया  से ग्रसित हो गए थे. डॉक्टरों ने इस मरीज का इलाज प्लाज्मा थेरेपी के जारिए करने का प्रयास किया. लेकिन यह असफल रही.