कराची: पाकिस्तान में पहली बार एक महिला मरीज की सफल रोबोटिक सर्जरी की गई. यह सर्जरी कराची के एक अस्पताल में हुई. डान न्यूज की रपट के अनुसार, हिस्टरेक्टोमी नामक सर्जरी शनिवार को हुई. यह सर्जरी कराची के सिविल हास्पिटल में तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय बहुविधि रोबोटिक सर्जरी कार्यशाला के समापन दिन संपन्न हुई.

Health Tips: दोपहर में सोने का मन है तो क्‍या करें, पढ़ें आपकी हर जिज्ञासा होगी दूर

बलूचिस्तान निवासी महिला को लगातार रक्तश्राव होता था. इस रोबोटिक सर्जरी के जरिए 55 वर्षीय महिला के गर्भाशय को काट कर निकाल दिया गया. अस्पताल के सूत्रों के अनुसार, उसे 24 घंटे बाद छुट्टी दे दी जाएगी. किंग्स कॉलेज लंदन और सेंट थामस हास्पिटल्स लंदन के रोबोटिक शल्यचिकित्सकों के दल ने सहयोगी कर्मियों के एक दल के साथ सर्जरी को अंजाम दिया. चिकित्सा विशेषज्ञों ने इस सफल सर्जरी को पाकिस्तान में रोबोटिक सर्जरी के क्षेत्र में एक बड़ी सफलता बताया है, खासतौर से स्त्री रोग के क्षेत्र में.

क्‍या आप भी 6 घंटे से कम नींद लेते हैं तो खतरे में है आपका ‘दिल’

यूट्रेस निकलवाने के बाद रिकवरी में लगता है लंबा समय
यूट्रेस निकलवाने की प्रक्रिया के बाद महिलाओं को रिकवरी में समय लगता है। इसके लंबवत आकार में एक कट लगाया जाता है। कुछ मामलों में क्षैतिज आकार का भी होता है। इस कट के द्वारा गर्भाशय को शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है। इस प्रक्रिया में सर्जरी के बाद हफ्तों तक महिलाओं को बेड पर आराम करना पड़ता है। इसके दौरान जो घाव या दाग पड़ता है वो भी आसानी से नहीं जाता है। कुछ मामलों में ये महीनों तक रह जाता है जबकि कुछ में सालों तक इसका निशान नहीं जाता है।

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.