भारतीय रसोई में खाने का जायका बढ़ाने वाले कढ़ी पत्ते कितने गुणकारी है यह बात आज कल के आधुनिक युग में लोगो को पता नहीं है। बाल काले रखने से लेकर मोटापा कम करना तथा पेट के रोगो से निजात पाने तक कढ़ी पत्ते का उपयोग किया जा सकता है। कढ़ी पत्ता आयुर्वेद की एक ऐसी दवा है, जिसके उपयोग से व्यक्ति रोग मुक्त हो जाता है। आइए जानते है कढ़ी पत्ते के 10 ऑषधीय गुण।

कढ़ी पत्ते के 10 ऑषधीय गुण :

1. काले मजबूत बालो के लिए नारियल के तेल में कढ़ी पत्ते को उबाल कर ठंडा होने पर इस्तमाल करें।

2. उल्टी और अपच में कढ़ी पत्ते को नींबू के रास में चीनी के साथ लेना फायदेमंद होता है।

3. कढ़ी पत्ते के नियमित इस्तमाल से आँखों की रोशनी अच्छी रहती है।

4. अगर आपके बाल अचानक से सफ़ेद हो रहे है या फिर झड़ रहे है तो आप कढ़ी पत्ते का सेवन करे या फिर उसका पाउडर बनाकर नियमित रूप से ले।

5. अगर आपको किडनी की तकलीफ है, तो कढ़ी पत्ते से मिल सकती है आपको राहत।

6. बवासीर की तकलीफ काम करने के लिए कढ़ी पत्तियों को शहद के साथ लेने से आराम मिलेगा।

7. अगर आप वजन कम करने की सोच रहे है तो रोज़ खाली पेट कुछ कढ़ी पत्ते चबाये और खुद को फिट बनाये।

8. दस्त और पेचिश से निजात पाने के लिए कढ़ी पत्तियों को शहद के साथ लेने से आराम मिलेगा।

9. डायबिटीज को कंट्रोल में लाने के लिए रोज़ 10 कढ़ी पत्तियों का सेवन करे 2 से 3 महीने।

10. रुसी से निजात पाने के लिए कढ़ी पत्ते का लेप बनाकर जड़ो में लगाये।

आयुर्वेद के इन नुस्खों का हम अगर अपने जीवन में सही तरीके से उपयोग करे तो हम अपने साथ साथ आने वाले युवा पीढ़ी को भी आयुर्वेद का महत्व समझा सकते हैं।