न्यूयॉर्क: दिल की धमनी की दीवारों में चिपके कैल्शियम के कण, दिल से जुड़ी बीमारियों का संकेत दे सकते हैं, खासतौर से भारत सहित दक्षिण एशियाई देशों के पुरुषों में. इससे इलाज के तरीके विकसित करने में मदद मिल सकती है. कैलिफोर्निया-सैन फ्रांसिस्को विश्वविद्यालय (यूसीएसएफ) के शोधकर्ताओं के दल के अनुसार, दक्षिण एशिया के लोगों में दिल संबंधी बीमारियां (कार्डियोवेस्कुलर डिजीज) होने की आशंका ज्यादा रहती है.Also Read - Health Alert: नींद से संबंधित ये बीमारी भारत में 40 लाख लोगों को कर रही परेशान, बचकर रहें

Also Read - Coronavirus Health Alert: कोरोना से संक्रमित हुए लोगों को किडनी का रखना चाहिए खास ख्याल

Health Alert: जानें क्या है ‘विंटर ब्लू’, सर्दियों में क्यों बढ़ते हैं लोगों में Depression के लक्षण Also Read - Cancer Early Symptoms: कैंसर के शुरुआती 7 लक्षण, जिन्हें अक्सर इग्नोर कर देते हैं लोग

दुनियाभर में दिल से जुड़ी बीमारियों के 60 फीसदी से ज्यादा मरीज इस क्षेत्र से आते हैं. दिल से जुड़ी बीमारियां अन्य नस्ल व जातीय समूहों की तुलना में कम उम्र के लोगों में उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल व मधुमेह जैसे दूसरे जोखिम कारक भी विकसित करती हैं. इसके अलावा दक्षिण एशियाई पुरुषों (8.8 फीसदी) में अपनी महिला समकक्षों (3.6 फीसदी) की तुलना में कैल्शियम के जमा (कैल्शिफिकेशन) होने की उच्च दर पाई गई है.

Health Tips: ठंड के मौसम में इन उपायों को अपनाकर रहें स्वस्थ

यूसीएसएफ की प्रोफेसर अलका कनाया ने कहा कि कोरोनरी धमनी में कैल्शियम की मौजूदगी व बदलाव सजातीय जनसंख्या में जोखिम कारकों के पूर्व सूचना में सहायक हो सकती है व स्टेटिन व दूसरी रोकथाम उपचार के विवेकपूर्ण इस्तेमाल को गाइड कर सकती है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.