नई दिल्‍ली: मोबाइल जीवन का ऐसा हिस्‍सा है, जिसके बगैर लोग घर से बाहर नहीं निकलते. कुछ लोग दिन में एक या दो घंटे भी फोन के बिना नहीं गुजार पाते. ये सब जानते हुए कि मोबाइल सेहत के लिए कितना खतरनाक है.

आंख के ये धब्‍बे हो सकते हैं याददाश्‍त कमजोर होने के संकेत, ना करें इग्‍नोर…

ऐसा ही एक मामला ताइवान से सामने आया है. ताइवान में 25 साल की एक लड़की जो मोबाइल की ब्राइटनेस को फुल करके दिन-रात फोन का इस्‍तेमाल करती थी, इस वजह से उसकी आंखें खराब हो गई. यहां तक की उसकी आंखों के कॉर्निया में 500 छेद हो गए. एक रिपोर्ट के मुताबिक, ये लड़की प्रोफेशन से सेक्रेटरी है, जिसके अपने काम की वजह से मोबाइल का ज्‍यादा इस्‍तेमाल करना पड़ता है. चाहे दिन हो या रात, उसे मोबाइल पर एक्टिव रहना होता है. इस वजह से वह अपने मोबाइल की ब्राइटनेस को हमेशा फुल रखती थी. इसी आदत से उसकी आंखों को इतना नुकसान हुआ.

अब नहीं जाएगी आंखों की रोशनी, वैज्ञानिकों ने तैयार किया ऐसा अजूबा ‘आई-ड्रॉप’

ऐसे चला पता
साल 2018 तक दो साल उसने ऐसे ही काम किया, जिसके बाद उसे महसूस हुआ कि उसकी आंखों में कुछ दिक्‍कत है. कई आई स्‍पेशलिस्‍ट को दिखाने के बाद और आई ड्राप्‍स डालने के बाद भी उसे आराम नहीं मिला. धीरे-धीरे उसे आंखों में दर्द और ब्‍लडशॉट(आंखों में खून वाली नसें) होने लगा. इसके बाद दिखने में भी दिक्‍कत होने लगी. जब उसके अस्‍पताल में आंखे दिखाई तो पता चला कि बाई आंख के कॉर्निया में 500 छेद हो चुके हैं, फिलहाल लड़की का इलाज अभी तक चल रहा है.

सर्दियों में आंखों में हो सूखापन या खुजली, ऐसे करें देखभाल

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.