भारतीय स्नैक्स की बात का जाए तो ऐसी बहुत कम चीजें हैं जो देसी हैं और हल्की फुल्की भूख भी मिटाने में नददगार हैं. अगर आप भारतीय स्नैक्स पर नजर डालेंगे तो निराशा ही हाथ लगेगी क्योंकि इसकी जगह अब फ्रेंच फ्राइज, मौगी और मोमोज ने ले ली है. हम सभी ने कभी न कभी भुने हुए चने खाए होंगे. जी हां..वहीं भुने चने जिस पर हिंदी फिल्म का एक फेमस गाना ”चना जोर गरम भी बना है.”

क्या आपने कभी सोचा है कि छोटा सा दिखने वाला ये चना हेल्थ का खजाना है. भुने हुए चने को अगर सही तरीके से चबा चबाकर खाया जाए तो यह शरीर को एनर्जी देता है. चना प्रोटीन, फाइबर का अच्छा सोर्स है और कई तरह से हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है. आपको एक बात का ध्यान भी रखना है और वो ये कि कौन सा चना खाया जाए. आपको बता दें कि मार्केट में दो तरह के चने मिलते हैं..छिलके वाले चने और बिना छिलके वाले चने.

बता दें कि छिलके वाले चने एक बेहतरीन स्नैक है जो वजर घटाने में हेल्प करता है. भुना चना कैलोरी मीटर में बहुत नीचे आता है जिसके कारण बॉडी ऑबेसिटी और कोलेस्ट्रॉल की पहुंच से दूर रहती है. एक दिन में एक से दो पाउंड वजन कम करने के लिए 500-1000 कैलोरी बर्न करने की जरूरत पड़ती है. अगर आप दिन में मुठ्ठीभर चना खाते हैं तो कैलोरी मीटर में ये सिर्फ 46-50 के आसपास रहता है. भुना चना हेल्दी तो रहता ही है साथ ही कम कैलोरी के साथ भूख भी मिटाता है.

इसके अलवा डायबिटिज़ के मरीजों के लिए भुना चना बेहद लाभदायक है. यह ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करता है जिससे वे किसी भी समय खा सकते हैं. भुना चना प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है और इसके साथ वजन कंट्रोल करने में भी मदगार है. एक कप भुने चने में 15 ग्राम प्रोटीन और 13 ग्राम फाइबर होता है. प्रोटीन और फाइबर की ये मात्रा हमारी दिनभर की जरूरत का 50% है.