नई दिल्ली: आपने अक्सर लोगों को दूध में हल्दी में डालकर पीते हुए देखा होगा. कई बार आपको घेरलू उपचार में हल्दी का इस्तेमाल भी दिखा होगा. हल्दी आपके सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है. अगर आपको खांसी की समस्या है या अंदरूनी कमजोरी लग रही है तो आप हल्दी वाला दूध अगर पीते हैं तो आपको काफी जल्दी राहत महसूस होने लगेगा. आज हम आपको हल्दी से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं. इसके बाद आपको समझ आ जाएगा कि आखिर हल्दी इतनी फायदेमंद कैसे है.

1- अक्सर आपको घर में हल्दी वाला दूध पीने को कहा जाता है. अगर आपको खांसी या जुकाम जैसी समस्या है तब तो आपको और भी यह सलाह दी जाती है. आपको बता दें कि हल्दी वाले दूध से खांसी-जुकाम जैसी समस्या से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है.

2- हल्दी वाला दूध पीने से आपके शरीर पर लगे घाव के निशान आसान से भर जाते हैं. साथ ही यह पीरियड्स में भी काफी फायदेमंद रहता है. यह दर्द को खत्म करने में कारगार साबित होता है.

3- हल्दीदूध का प्रयोग अर्थराइटिस के इलाज के लिए भी किया जाता है. इसके सेवन से रूमेटाइड अर्थराइटिस के कारण हुई सूजन कम हो जाती है.

Health Tips: अपनी डाइट में गाजर को करें शामिल, कैंसर और कई अन्य बीमारियों से पाएं निजात

4- हल्दी दूध एक एंटीमाइक्रोबायल है, जो बैक्टीरियल इंफेक्शन और वायरल इंफेक्शन के साथ लड़ता है. ये दूध सांस संबंधी समस्याओं से निपटने में मदद करता है, क्योंकि इसे पीने से शरीर का तापमान बढ़ता है जिसकी वजह से लंग कंजेशन और साइनस में आराम पहुंचता है. ये अस्थमा और ब्रोंकाइटिस जैसी समस्याओं में भी राहत पहुंचाता है.

5- हल्दीदूध बच्चों के लिए बेहद फायदेमंद होता है. इसमें कैल्शियम काफी मात्रा में पाया जाता है जो हड्डियों के लिए फायदेमंद है.

6- हल्दीदूध हड्डियों में होने वाले नुकसान की ये भरपाई करता है और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियों से भी बचाव करता है.

आखिर कैसे काम करता है ‘हेल्थ एटीएम’, जानिए इसकी खासियत

7- हल्दी वाले दूध में एंटीइनफ्लेमेटरी तत्व होते हैं. यह पेट के अल्सर, अर्थराइटिस जैसी गंभीर बीमारियों से आपका बचाव करता है. आयुर्वेद में हल्दीदूध के महत्व को विस्तार से बताया गया है. हल्दी दूध को दर्दनिवारक बताया गया है. ये सिरदर्द, सूजन और शरीर दर्द को ठीक करता है.

8- हल्दी दूध के सेवन से शरीर में खून में मौजूद गंदगी खत्म हो जाती है. यह खून को साफ करता है. साथ ही शरीर में रक्त संचार को व्यवस्थित बनाए रखने में मदद करता है.