लंदन में हुई एक स्टडी में पाया गया है कि एचआईवी (ह्यूमन इम्यूनोडेफिसियंसी वायरस) से संक्रमित लोगों में दिल के रोगों के होने की संभावना दोगुनी होती है. इस रिसर्च स्टडी को पत्रिका सर्कुलन में प्रकाशित किया गया है. इसमें कहा गया है यह वायरस ब्लड में वसा के स्तर को बढ़ा देता है और माना जाता है कि इससे शरीर के शुगर के स्तर के नियमन की क्षमता प्रभावित होती है, जिससे दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है.Also Read - Bramha Mishra Died: मिर्जापुर में मुन्ना भईया की जान बचाने वाले ब्रम्हा मिश्रा का निधन, 3 दिन तक फ्लैट में सड़ती रही लाश

download Also Read - शरीर में गुड कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ाकर कम कर सकते हैं हार्ट अटैक और स्‍ट्रोक का खतरा, जानिए Good Cholesterol बढ़ाने के 7 उपाय

एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी के सह लेखक अनूप शाह ने कहा, “इस रिसर्च का कम संसाधन वाले देशों में दिल संबंधी रोगों के रोकथाम की नीतियों की योजना बनाने में महत्वपूर्ण निहितार्थ है, जहां एचआईवी का बोझ ज्यादा रहता है और वहां दिल संबंधी बीमारियां बढ़ रही हैं.” Also Read - Delhi: सीनियर कांग्रेस नेता अरविंदर सिंह का हार्ट अटैक से निधन, पंचतत्‍व में विलीन

dfgreuhy2 copy

शोधकर्ताओं के अनुसार, एचआईवी और दिल संबंधी बीमारियों के संबंध की बहुत कम जानकारी उपलब्ध है. उनका मानना है कि वायरस से रक्त वाहिकाओं में सूजन हो सकती है, जिससे दिल संबंधी प्रणाली पर दबाव बढ़ता है.

536109-hiv-new

वैश्विक आंकड़ों से यह भी खुलासा होता है कि एचआईवी से जुड़ी दिल संबंधी बीमारियां बीते 20 सालों में तिगुने से ज्यादा हुई है, क्योंकि ज्यादा संख्या में लोग वायरस के साथ जी रहे हैं. दुनिया भर में 3.5 करोड़ से ज्यादा लोग एचआईवी से संक्रमित हैं और यह आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है.