लखनऊ: आधुनिक खान-पान व रहन-सहन ने लोगों को बीमारियों का घर बना दिया है. ऐसे में अपने स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान देना जरूरी है. आजकल सबसे कॉमन बीमारी हो गई है कमर दर्द. अगर आपको कमर दर्द हो रहा है और ऐसा होते पांच‍ दिन से ज्‍यादा हो रहा है तो इसे हल्‍के में न लें. साथ ही हाथ-पैर सुन्‍न हो जाए या झंझनाहट महसूस हो रही तो फौरन डाक्‍टर को दिखाएं. क्‍योंकि यह रीढ़ की दिक्‍कत हो सकती है. स्‍पाइन में किसी तरह की दिक्‍कत है तो मिनिमली इन्‍वेंसिव स्‍पाइन सर्जरी (दूरबीन) से ऑपरेशन किया जाता है. यह बात नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज के न्‍यूरो सर्जरी विभागाध्‍यक्ष डा. वाईआर यादव ने कही.

Tips: आपको आता है ज्‍यादा गुस्‍सा तो ऐसे निकालिए अपनी भड़ास, फौरन हो जाएंगे Cool

वे लखनऊ स्थित पीजीआई में आयोजित सर्जरी कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे. उन्‍होंने कहा कि दूरबीच तकनीक से स्लिप डिस्‍क की परेशानी तीन से चार दिन में दूर हो सकती है. न्‍यूरो सर्जरी के कुल मामलों में 50 फीसदी से ज्‍यादा स्‍पाइन सर्जरी के केस आ रहे हैं. इस दौरान चार मरीजों के रीढ़ की हडडी में स्लिप डिस्‍क और गर्दन के पास डिस्‍क न होने वाली परेशानी की दूरबीन तकनीक से सर्जरी की गई.

LOVE में पहल पुरुष ही क्यों करें? जानिए महिलाओं में क्‍यों बढ़ा प्‍यार तलाशने का चलन

10 फीसदी में ही सर्जरी की जरूरत
डाक्‍टरों ने बताया कि रीढ़ की हडडी में स्‍लीप डिस्‍क होने पर 90 फीसदी मरीजों में दर्द से राहत दवा और फिजियोथैरेपी से मिल जाती है. सिर्फ 10 फीसदी में सर्जरी की जरूरत पड़ती है.

भारत में 8 में से एक महिला Breast Cancer की चपेट में, जानिए लक्षण, कारण और बचाव के उपाय

कैसे बचाएं स्‍पाइन

  • वजन कर रखें, रोज व्‍यायाम करते रहें
  • पौष्टिक चीजें खाना बंद न करें, खासतौर पर कैल्सियम
  • शराब व धूम्रपान से बचें
  • भारी चीजें झटके से न उठाएं
  • गडढे वाली सड़कों पर धीमी गति से वाहन चलाएं
  • उठते और बैठते समय ध्‍यान रखें कि रीढ़ पर ज्‍यादा दबाव तो नहीं है
  • ज्‍यादा देर तक बैठकर काम करना है तो हर आधे घंटे में एक बार खड़ा हो जाएं
  • दो चार मिनट टहलने के बाद सीट पर बैठे

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.