नई दिल्ली: आईआईटी बॉम्बे की एक टीम ने कुछ प्रोफेशनलस और पूर्व अनुभवी छात्रों के साथ मिलकर Corontine नाम से एक मोबाइल एप बनाने का दावा किया है. यह एप कोरोना वायरस से संभावित या संदिग्ध मरीजों की निगरानी करने में मदद करेगा. क्वॉरेंटाइन में रह रहा कोई मरीज अपने घर से या जिस स्थान पर रखा गया है, वहां से बाहर जाता है तो इस एप की मदद से उसे आसानी से ट्रैक किया जा सकता है.  Corontine एप फ्लैक्सीबल, कॉम्प्रीहेंसिव, स्केलेबल और रेडी टू यूज है. Also Read - कोरोना वायरस से प्रभावित टॉप 10 देशों की सूची में पहुंचा भारत, जून के अंत तक बहुत तेजी से बढ़ेंगे मामले

Corontine एप की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार बताया जा रहा है कि यह एप अधिकृत एजेंसियों द्वारा उन लोगों के मोबाइल फोन में इंस्टॉल किया जाएगा, जो पहले से ही क्वॉरेंटाइन में रह रहें हैं. यह मोबाइल एप GPS को सर्वर पर भेजेगा, जिसकी निगरानी अधिकृत एजेंसियां करेगी. यदि कोई मरीज क्वॉरेंटाइन जोन से बाहर निकलता है तो यह एप सर्वर को एक मैसेज भेजेगा. यह ऑटो डिक्टेटेड होगा. Also Read - पंजाब में कोविड-19 के 21 नए मामले सामने आये, कुल संख्या बढ़ कर 2,081 हुई

Corontine एप का उद्देश्य अधिकारियों या प्रशासन को क्वॉरेंटाइन में रह रहे लोगों को ट्रैक करने और कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए मदद करना है. Corontine मोबाइल एप और इसके एडमिन प्लेटफॉर्म के बारे में आधिकारिक वेबसाइट https://corontine.in पर जाकर यूजर मेनुअल में देख सकते हैं. इस मोबाइल एप के सभी फीचर्स और एडमिन एक्सेस करने के लिए लॉग इन करना पड़ेगा और यह सुविधा सिर्फ अधिकृत व्यक्तियों को ही दी जाएगी. Also Read - शादी के तुरंत बाद दूल्‍हा-दुल्‍हन सीधे पहुंचे अस्‍पताल, कोरोना टेस्‍ट कराने के बाद पहुंचे घर