देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमण होने के मामले में लगातार वृद्धि देखी जा रही है. सरकार इस वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पूरी कोशिश कर रही है. कोरोना वायरस से पूरे देश में अबतक कुल 23,077 लोग संक्रमित हो चुके हैं. इस वायरस के परीक्षण के लिए IIT दिल्ली ने एक मैथेड ईजाद किया है, जो काफी सस्ती है. इस बारे में गुरुवार को अधिकारियों ने कहा कि COVID-19 का पता लगाने का एक तरीका है, जो परीक्षण की लागत को काफी कम कर देगी, जिससे यह देश की बड़ी आबादी के लिए सस्ती हो जाएगी. ICMR ने इसे लेकर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT), दिल्ली को मंजूरी दे दी है. Also Read - कोविड-19 जांच के लिए 4,500 रुपए की सीमा हटाई गई, अब राज्य और निजी प्रयोगशालाएं तय करेंगी कीमत

IIT दिल्ली पहला शैक्षणिक संस्थान है जिसने एक वास्तविक समय पीसीआर-आधारित डायग्नोस्टिक जांच के लिए ICMR से मान्यता प्राप्त किया है. एक सीनियर अधिकारी समाचार एजेंसी से बात करते हुए कहा, “परीक्षण विधि ICMR द्वारा अनुमोदित किया गया है. परीक्षण को संवेदनशीलता और 100 प्रतिशत की विशिष्टता के साथ ICMR द्वारा मान्य किया गया है. IIT दिल्ली वास्तविक शैक्षणिक पीसीआर-आधारित डायग्नोस्टिक जांच के लिए ICMR अनुमोदन प्राप्त करने वाला पहला शैक्षणिक संस्थान बन गया है. Also Read - आईसीएमआर का दावा, कोरोना वायरस वैक्सीन का मनुष्यों पर टेस्टिंग में लग सकते हैं 6 महीने

तुलनात्मक अनुक्रम विश्लेषणों का उपयोग करते हुए IIT दिल्ली के टीम ने COVID-19 और SARS COV-2 जीनोम में अद्वितीय क्षेत्रों (RNA अनुक्रमों के छोटे हिस्सों) की पहचान की है. Also Read - Hydroxychloroquine Trial: COVID-19 के इलाज में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के ट्रायल पर WHO ने लगाई रोक, टेड्रोस ने कही ये बात...