नई दिल्ली: हम सभी सफेद दांत और सुंदर मुस्कुराहट की चाह रखते हैं. इसके लिए काफी कोशिशें भी करते हैं. कभी टूथपेस्ट बदलना तो कभी आयुर्वेदिक उपाय, सब कुछ अपनाते हैं. ऐसे में होता ये है कि दांतों की सफाई को लेकर कई तरह के वहम हमारे दिमाग में बैठ जाते हैं. आज ऐसे ही सवालों के जवाब जानिए- Also Read - Home Remedies For Teeth: इन आसान तरीको से दूर करें अपने दांतों का पीलापन, अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

Also Read - दुनिया का ये पहला मामला, चेन्‍नई में डॉक्‍टरों ने 7 साल के बच्‍चे के मुंह से 526 दांत निकाले

1. दांतों को सफेद करने वाले टूथपेस्ट के कारण आपके दांतों का रंग सुधरेगा. Also Read - काम की खबरः टूथब्रश में कितना पेस्ट लगाएं और ऐसे साफ करें नाखून

हम अक्सर मानते हैं कि दांतों को सफेद करने वाले गम हमारे दांतों के पीले रंग को सफेद कर देंगे. ये गलत है! इन उत्पादों में कुछ सफेद रसायन होते हैं, लेकिन यह आपके लिए पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं.

2. दांत साफ करने से ईनोमेल टिशू पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.

यह सच नहीं है! दांत सफेद करने की एक सिद्ध दंत चिकित्सा प्रक्रिया है, जो पेशेवर दंत चिकित्सकों द्वारा की जानी चाहिए. प्राकृतिक घरेलू उपचार या सौंदर्य सैलून जाने की बजाय, दंत चिकित्सकों से अपने दांतों की देखरेख करवाना बेहतर होता है.

3. फल दांतों से उपभेदों को हटा सकते हैं.

हममें से अधिकांश ने सुना है कि केले के छिलके या नींबू जैसे फल रगड़ने से दांत चमकदार हो सकते हैं. हालांकि फल फायदेमंद माने जाते हैं लेकिन दांतों पर रगड़ने से वे एसिड उत्पन्न करते हैं जो दांत के ईनोमेल को नुकसान पहुंचाता है.

ek_teeth-problems

4. दांत सफेद करना स्थायी समाधान है.

यह एक सच्चा तथ्य है कि पेशेवर उपचार के बाद, आपके दांत लंबे समय तक सफेद रहेंगे. लेकिन यह कहना गलत है कि आपके दांत जीवन भर के लिए सफेद बने रहेंगे. हमारी खाने की आदतें और जीवनशैली के साथ हमें नियमित रूप से दांत को सफेद करवाना चाहिए.

5. जब आपके मसूड़ों से खून बह रहा है तो आपको ब्रश करना बंद कर देना चाहिए.

ब्रश करते समय अगर मसूड़ों से खून बहता दिखे तो तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए. मसूड़ों से खून तभी बहता है जब आप दांतों को ठीक से साफ नहीं करते. लगातार ब्रश से आपकी समस्याओं का समाधान होगा.

CANCER: इन 15 प्रॉब्लम्स को इग्नोर ना करें महिलाएं, होते हैं कैंसर के आरंभिक लक्षण…

6. दांतों के दर्द को कम करने के लिए एस्पिरिन की जरूरत है.

यह कुछ हद तक सही है कि एस्पिरिन से दर्द में राहत मिल सकती है लेकिन एस्पिरिन भी मसूड़ों और दांतों को नुकसान पहुंचाती है.

7. रूट कनाल अत्यधिक दर्दनाक और जोखिम भरी प्रक्रिया है.

यह उन लोगों की एक और गलतफहमी है जो दांत के दर्द से पीड़ित हैं. दंत चिकित्सा में तकनीकी प्रगति के साथ, रूट कनाल उपचार अब एक दर्दनाक प्रक्रिया नहीं रही. दांतों में लंबे समय तक होने वाले दर्द की चिंता करना और उनसे संघर्ष करना बंद करें.

(नोएडा स्थित एस्थेटिका 360 डेंटल क्लिनिक के जानकारों द्वारा दिए गए जवाब-एजेंसी से इनपुट)

हेल्थ की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.