बीजिंग: परिवार के किसी सदस्य में कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षण दिखने से पहले घर में मास्क पहनने से परिवार में इसे फैलने से रोकने में मदद मिल सकती है. एक अध्ययन में यह बात सामने आई है. ‘बीएमजे ग्लोबल हेल्थ’ पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में यह बात कही गई है. यह अध्ययन चीन के परिवारों पर किया गया. इसमें दर्शाया गया है कि परिवार के पहले व्यक्ति में संक्रमण के लक्षण दिखने से पहले घर में मास्क पहनना संक्रमण की रोकथाम में 79 प्रतिशत प्रभावशाली हो सकता है. Also Read - दिल्ली में कोरोना के 2,008 नए मामले सामने आए, कुल संक्रमित संख्या 1,02,831 हुई; 3,165 की मौत

अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि लक्षण दिखने के बाद घर में मास्क पहनने से संक्रमण रोकने में मदद नहीं मिलती. अनुसंधानकर्ताओं के इस दल में बीजिंग रिसर्च सेंटर फॉर प्रिवेंटिव मेडिसिन के अनुसंधानकर्ता भी शामिल हैं. परिवारों में संक्रमण को रोकने के लिए मास्क की उपयोगिता का पता लगाने के लिए अनुसंधानकर्ताओं ने बीजिंग के 124 परिवारों के 460 लोगों से वैश्विक महामारी के दौरान स्वच्छता संबंधी आदतों से जुड़े प्रश्न किए. Also Read - कोरोना महामारी से मुकाबले के लिए ‘हर्ड इम्यूनिटी’ की संभावना पर संदेह, इस अध्ययन में आई ये बात सामने 

अध्ययन में बताया गया है कि कीटाणुनाशकों का रोजाना इस्तेमाल करने, खिड़कियां खोलने और कम से कम एक मीटर की दूरी बनाए रखने से संक्रमण फैलने का खतरा कम होता है. अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार यदि परिवार का कोई सदस्य संक्रमित हुआ है और उसे दस्त की शिकायत है तो परिवार के अन्य सदस्यों के संक्रमित होने का खतरा अधिक है. इसके अलावा एक मेज पर साथ बैठकर खाना खाने या साथ टीवी देखने से भी खतरा 18 गुणा बढ़ जाता है. Also Read - लॉकडाउन के कारण रद्द हुईं उड़ानें, लोगों का पैसा अटका; अब न्यायालय ने केन्द्र और डीजीसीए को भेजा नोटिस

उन्होंने कहा कि घर में सफाई के लिए ब्लीच या कीटाणुनाशकों का नियमित प्रयोग करने और मास्क पहनने से संक्रमण का खतरा कम होता है. अध्ययन में बताया गया है कि संक्रमण को फैलने से रोकने में लक्षण दिखने से पहले मास्क पहनना 79 प्रतिशत और कीटाणुनाशकों का उपयोग 77 प्रतिशत तक प्रभावी है.