नई दिल्‍ली: हालिया अध्‍ययन की रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि रिटायरमेंट के बाद जहां पुरुषों की सेहत में सुधार होता है, वहीं महिलाओं की सेहत पर रिटायरमेंट का कोई सकारात्‍मक असर नहीं होता. इस अध्‍ययन को पेरिस के सोरबोन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने किया है. इनमें से एक अर्थशास्‍त्र के प्रोफेसर क्‍लॉडिया सेनिक ने कहा कि शोध के नतीजे आने से पहले मैंने उम्‍मीद की थी कि रिटायरमेंट के बाद लोगों की सेहत खराब हो जाती होगी. लेकिन मैं गलत थी. क्‍लॉडिया ने कहा कि मुझे लगा था कि नौकरी से रिटायर होने के बाद लोग उदासी महसूस करेंगे. खासतौर से यदि उनका अपने काम से बेहद लगाव रहा है तो उनके लिए काम से छुट्टी पाना सोशल लॉस की तरह होगा. लेकिन आंकड़े कुछ और ही बयां कर रहे हैं.Also Read - Omicron के मामले बढ़ने पर क्या फिर से लगेगा Lockdown? Video में जानिए

अध्‍ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने रिटायर होने वाले लोगों की सेहत का अध्‍ययन किया और सेहत को लेकर उनकी क्‍या अपेक्षाएं हैं यह भी पूछा. ऑस्‍ट्रेलिया में 14 साल तक चलने वाले इस अध्‍ययन में 50 से 75 साल के लोगों को शामिल किया गया. Also Read - Health Benefits Of Avocado: एवोकाडो के इन बेहतरीन फायदों के बारे में जानकर दंग रह जायेंगे आप, आज ही ट्राय करें | वीडियो देखें

अध्‍ययन में जो आंकड़े आए हैं उसके अनुसार रिटायर होने के बाद पुरुषों की सेहत में 5 फीसदी का इजाफा देखा गया. हालांकि महिलाओं की सेहत पर इसका कोई प्रभाव नहीं हुआ. ऐसा इसलिए है क्‍योंकि हो सकता है कि वह पहले से ही हेल्‍दी लाइफ जीती हों. Also Read - Omicron Variant: कितना खतरनाक है ओमिक्रोन वेरिएंट, क्या हैं इसके लक्षण? जानिए सबकुछ एक्सपर्ट की ज़ुबानी | Watch

क्‍लॉडिया ने कहा कि महिलाएं अपनी सेहत के प्रति पुरुषों से कहीं ज्‍यादा सचेत होती हैं और स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर सही समय पर सही फैसले करती हैं.