न्यूयॉर्क: अगर आप यह सोचते हैं कि मच्छर आप को इसलिए काटते हैं कि आप का खून मीठा है तो यह ज्यादा गलत नहीं है. एक नए अध्ययन में पता चला है कि मच्छर उन्हें मारने वालों से दूर भागते हैं. इस शोध का प्रकाशन ‘करंट बॉयोलॉजी’ नामक पत्रिका में किया गया है. पत्रिका में कहा गया है कि मच्छर तेजी से सीख सकते हैं और गंध को याद रखते हैं और इस प्रक्रिया में डोपामाइन एक मुख्य मध्यस्थ की भूमिका निभाता है. Also Read - खुशखबरी: किडनी की पथरी के लिए हर्बल दवा विकसित की गई, जानें डिटेल्स...

मच्छर इस जानकारी का इस्तेमाल करते हैं और इसे दूसरे उद्दीपकों के साथ विशेष कशेरूकी पोषक जातियों व निश्चित आबादी में इस्तेमाल करते हैं.
हालांकि, शोध से यह भी साबित होता है कि यदि एक व्यक्ति की गंध अच्छी है तो मच्छर अप्रिय गंध के बजाय प्रिय गंध को पसंद करते हैं. शोधकर्ताओं के अनुसार, व्यक्ति जो मच्छरों को ज्यादा मारते हैं या रक्षात्मक रवैया अपनाते हैं, चाहे उनका खून कितना भी मीठा हो मच्छर उनसे दूर रहते हैं. Also Read - पहल: इस राज्य में अंग प्रत्यारोपण और अंगदान हुआ आसान, पढ़ें पूरी डिटेल

अमेरिका के वर्जीनिया टेक के शोध के सहायक प्रोफेसर चोल लाहोंड्रे ने कहा, अब हम जानते हैं कि मच्छर गंध पहचानते हैं और उन्हें लेकर ज्यादा रक्षात्मक रहने वालों से बचते हैं. Also Read - Poonam Dubey hot Song: पूनम दुबे के दीवाने हुए मच्छर, रोमांस में बन गए अड़चन और फिर...