नई दिल्‍ली: अगर आप भी उस नुस्‍खे को खोजने में लगे हैं जिससे दिमाग तेज होता है तो ये खबर आपके काम की है. दरअसल, दिमाग को तेज बनाने का नया नुस्‍खा वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ निकाला है. Also Read - बुढ़ापा, पुरूष और पहले से बीमार होना कोरोना से है मौत का कारक, अध्ययन में आई ये बात सामने 

एक नये अध्ययन में ये बात सामने आई है कि म्‍यूजिक में किसी भी वाद्य यंत्र को सीखने और एक नई भाषा बोलने- सीखने से दिमाग तेज होता है. शोध में कहा गया है कि इससे दिमाग ज्यादा प्रभावी तरीके से काम करने में सक्षम हो सकता है. अध्ययन में पाया गया कि संगीतज्ञों और द्विभाषी लोगों में अन्‍य लोगों की तुलना में याद्दाश्त बेहतर होती है. Also Read - कोरोना को रोकने में मददगार होगा समुद्री लाल घास, स्टडी में सामने आई ये बात 

न्यूयॉर्क एकेडमी ऑफ साइंसेज के जर्नल एन्नल्स में प्रकाशित अध्ययन में शोधकर्ताओं ने कहा है कि संगीत या एक से ज्यादा भाषाओं की जानकारी की पृष्ठभूमि वाले लोग, दिमागी तौर पर ज्‍यादा सक्रिय करते हैं. Also Read - Coronavirus के रूप में हुए परिवर्तनों का पता चला, तीन वंशावली खोजी गईं: स्‍डटी

listen to music

कनाडा में बेक्रेस्ट्स रॉटमैन रिसर्च इंस्टीट्यूट के वरिष्ठ वैज्ञानिक क्लाउडे अलेन ने कहा, ‘ये नतीजे दिखाते हैं कि समान काम करने के लिये संगीतकारों और द्विभाषियों को कम प्रयास करने पड़ते हैं. ये डिमेंशिया के खतरों को भी टालती है.’

अलेन ने कहा कि उनके नतीजे यह भी दिखाते हैं कि एक व्यक्ति के अनुभव, जो एक वाद्य यंत्र बजाना सीखता है या एक अन्य भाषा सीखता है, यह तय कर सकते हैं कि दिमाग कैसे काम करता है और किस नेटवर्क का इस्तेमाल होता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि संगीतकार और द्विभाषी लोग दिखाते हैं कि उनमें काम को लेकर बेहद अच्छी याद्दाश्त, चीजों को दिमाग में रखने की बेहतर क्षमता जैसे फोन नंबर्स, निर्देशों को याद रखना, और दिमागी गणित की अच्छी क्षमता होती है.