अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कंडोम या गोलियां नहीं इन देसी तरीकों को अपनाएं... बेहद कारगर होते हैं साबित

करियर में आगे बढ़ने के साथ ये निजी जीवन के लिए भी खासतौर पर प्लानिंग करते हैं.

Updated: July 30, 2019 10:57 AM IST

By Santosh Singh

अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कंडोम या गोलियां नहीं इन देसी तरीकों को अपनाएं... बेहद कारगर होते हैं साबित
प्रतीकात्मक तस्वीर

Natural Methods Of Birth Control: आजकल के युवा जीवन को बेहद नियोजित तरीके से जीना पसंद करते हैं. यही कारण है कि करियर में आगे बढ़ने के साथ ये निजी जीवन के लिए भी खासतौर पर प्लानिंग करते हैं. इनकी प्लानिंग में कब शादी करनी है? कब मां-बाप बनना है? कितने बच्चे पैदा करने हैं? जैसी अहम चीजें शामिल होती हैं. ऐसी चीजें संभवतः एक-दो दशक पहले का समाज बहुत नियोजित तरीके से नहीं करता था. ऐसे में युवा इन स्वाभाविक चीजों को रोकने के लिेए मेडिकल साइंस का सहारा लेते हैं. इसमें सबसे अहम मसला मां-बाप बनने का है. भागदौड़ भरी जिंदगी में करियर को अहमियत देने की वजह से युवा अपने हिसाब से फैमिली प्लानिंग करते हैं. ऐसे में अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए वह दवाइयों (Avoid contraceptive) का सहारा लेते हैं. लेकिन इन दवाइयों के साइड इफेक्ट को देखते हुए हम आपको अनचाहे गर्भ धारण को रोकने के कुछ घरेलू नुस्खे बताते हैं.

फर्टिलिटी टेस्टः अनचाहे गर्भ धारण (Avoid Unwanted Pregnancy) से बचने के लिए सबसे मुफीद तरीका फर्टिलिटी के वक्त को पहचानना है. दरअसल, प्रत्येक महिला मासिक धर्म शुरू होने के 8वें से 18वें दिन के बीच फर्टाइल होती हैं. यानी इस दौरान शारीरिक संबंध बनाने से कोई महिला मां बन सकती है. लेकिन ऐसा नहीं है कि वह पूरे 10 दिनों तक ऐसी ही स्थिति में होती है. महिलाओं में एक खास तरह का ऐग बनता है. उसके रैपच होने के बाद उसने में से ऐग बाहर निकलते हैं और उसी वक्त उनका अगर स्पर्म से मिलन हो जाए तो उनके गर्भधारण करने की संभावना बढ़ जाती है. यह पूरा साइकल करीब 48 घंटे का होता है. ऐसे में आपका यह पता करना होगा कि ये खास वक्त कब आता है. इस वक्त आप संपर्क बनाने से बच सकते हैं या फिर कंडोम जैसे प्रोटेक्शन का सहारा ले सकते हैं. इस खास अवधि को जानने के लिए आप फर्टिलिटी टेस्ट कर सकते हैं. इसे टेस्ट को घर पर ही सुबह के पेशाब से किया जाता है.

रेड वाइन में हैं ढेरों खूबियां, पीने वालों को टेंशन और डिप्रेशन से मिलती है निजात

पपीताः परंपरागत रूप से गर्भ धारण से बचने या गर्भ को गिराने (Natural Methods To Avoid Unwanted Pregnancy) के लिए पपीता का इस्तेमाल किया जाता है. पपीता का बीज पुरुषों में स्पर्म को मारने और उनकी संख्या घटाने में कारगर होते हैं. ऐसे में पुरुष साथी पपीता का नियमित सेवन कर अपनी फर्टिलिटी को कम कर सकता है. दूसरी तरह फीमेल पार्टनर भी इस अवधि में पपीता का सेवन करे तो अच्छा होगा. इससे शारीरिक संबंध के दौरान महिला के शरीर में स्पर्म रह जाने के बावजूद उसके फर्टाइल होने की संभावना काफी कम हो जाती है.

कैलेंडर के हिसाब से शारीरिक संबंधः अनचाहे गर्भ (Avoid Unwanted Pregnancy) से बचने का एक तरीका मासिक धर्म के कैलेंडर के हिसाब से शारीरिक संबंध बनाना है. जिन महिलाओं को 26 से 32 दिन के अंतराल पर मासिक धर्म आता है उनके लिए यह काफी कारगर तरीका है. इसमें 8 से 18-19वें दिन तक महिला के सबसे ज्यादा फर्टाइल होने की संभावना होती है. इस दौरान शारीरिक संबंध बनाने से बचकर कोई दंपति अनचाहे गर्भ से बच सकता है. इस करीब 10 दिनों की अवधि में ही किसी एक दिन महिला के शरीर में ऐग बनता है और उसके 48 घंटे आगे-पीछे शरीरिक संबंध बनाने से बचा जाए तो गर्भधारण की संभवना काफी हद तक घट जाती है.

सेक्स के इन तरीकों से बेडरूम को बनाइए जिम, रहेंगे हमेशा फिट

स्पर्म का प्रवेश रोककरः इस प्रक्रिया में मेल पार्टनर फर्टाइल अवधि में शारीरिक संबंध बनाता है लेकिन अपना स्पर्म फीमेल पार्टनर की वजाइना में (Natural Methods To Avoid Unwanted Pregnancy) नहीं जाने देता. इसका सबसे सरल तरीका सेक्स के दौरान स्पर्म डिस्चार्ज होने के वक्त खुद को फीमेल पार्टनर से अलग करना होता है. यानी मेल पार्टनर फीमेल के वजाइना में डिस्चार्ज करने के बजाय उसे बाहर करता है. इससे काफी हद तक स्पर्म और ऐग के मिलन को रोका जा सकता है.

नीमः वैसे तो नीम एक औषधीय पेड़ हैं. इसके पत्ते कई तरह की औषधियों में इस्तेमाल किए जाते हैं. अनचाहे गर्भ को रोकने (Avoid Unwanted Pregnancy) के लिए नीम के पत्ते का रस या नीम के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है. नीम का तेल वजाइना में स्पर्म को 30 सेकेंड में मार देता है. यह अगले 5 घंटे तक प्रभावी भी रहता है. दूसरी तरह शारीरिक संबंध में नीम के तेल से इस्तेमाल से यह लुब्रिकेंट की तरह काम करता है और इससे कोई परेशानी भी नहीं होती.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें हेल्थ समाचार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: July 30, 2019 10:51 AM IST

Updated Date: July 30, 2019 10:57 AM IST