वाशिंगटन: क्षय रोग (टीबी) के उपचार के लिए एक ऐसी दवा विकसित की जा रही है, जो इस बीमारी के इलाज की लंबी अवधि को कम करने में मददगार साबित हो सकती है. ‘एंटीमाइक्रोबियल एजेंट्स एंड कीमोथैरेपी’ पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन रिपोर्ट में कहा गया है कि टीबी की नई प्रयोगात्मक एंटीबॉयोटिक दवा उन कोशिकाओं में रहती है जहां माइकोबैक्टीरियम टीबी जीवाणु लंबे समय तक रहते हैं और यह दवा इन जीवाणुओं को अधिक प्रभावशाली तरीके से समाप्त करती है. Also Read - Sabudana Benefits For Babies: शिशुओं के लिए किसी पावरफूड से कम नहीं है साबूदाना, यहां जानें इसके फायदे

Also Read - Health Tips: पेट में गैस की समस्या को बढ़ा देती है ये आदतें, निवारण से पहले जानें कारण

स्वाइन फ्लू से देशभर में 312 लोगों की मौत, 9000 से ज्यादा पीड़ित, जानिए इसके लक्षण Also Read - Sharad Purnima 2020: किसी अमृत से कम नहीं है शरद पूर्णिमा पर बनने वाली खीर, दूर होती हैं ये सभी बीमारियां

अमेरिका के कोलोराडो स्टेट विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर ग्रेगरी टी रॉबर्ट्सन ने कहा कि टीबी की दवा विकसित करने के कार्यक्रमों का मकसद एक ऐसी उपचार पद्धति विकसित करना है जो टीबी के उपचार की अवधि को कम करे और इसे सरल बनाए. अभी टीबी के उपचार में कम से कम छह महीने का समय लगता है और कई बार तो इसमें एक साल से अधिक समय भी लग जाता है.

Alert: दिखें ये लक्षण, हो सूजन तो ना करें इग्‍नोर, इस गंभीर बीमारी के हैं संकेत…

इस नई दवा का नाम एएन12855 है. रॉबर्ट्सन ने कहा कि एएन12855 की मौजूदा दवा आइसोनियाजिड की तुलना में अधिक प्रभावशाली साबित हुई है.

Health Tips: अखरोट खाने से कम हो सकता है D‍epression का खतरा