नई दिल्ली: अगर आप अपने बच्चे को पेरासिटामोल सिरप देते हैं तो आपको सचेत हो जाना चाहिए. एक शोध में बताया गया है कि पेरासिटामोल बच्चे को देने से क्या-क्या दुष्प्रभाव पड़ते हैं.

ये शोध किया गया ऑस्ट्रेलिया में. इसमें पता चला कि अगर बच्चों को उनके जीवन के शुरुआती दो वर्षों में बुखार आने पर पेरासिटामोल दवा दी जाती है, तो 18 साल की उम्र तक आते-आते उन्हें दमा होने का खतरा बढ़ जाता है.

फिनाइल हो या फ्लोर क्लीनर, इनसे लगाती हैं पोंछा तो बच्चे को होंगे ये नुकसान…

ek_asthma

शोधार्थियों ने कहा है कि पेरासिटामोल खाने से दमा होने का खतरा उन लोगों में ज्यादा है, जिनमें जीएसटीपी1 जीन होता है.

हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि पेरासिटामोल और दमा के बीच संबंध पाया गया पर इसका ये अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए कि बुखार की हर दवा लेने से दमा हो जाता है.

Alert: 2020 तक देश में हार्ट अटैक से मरने वालों की संख्या होगी सबसे ज्यादा

वैज्ञानिकों का मानना है कि इस परिणाम की पुष्टि करने के लिए अभी और शोध करने की जरूरत है. इस निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए शोधार्थियों ने 18 वर्ष तक की आयु के 620 बच्चों का अध्ययन किया था. इसमें शामिल किये गए सभी बच्चों के कम से कम एक परिजन को दमा, एग्जिमा (त्वचा रोग) या अन्य एलर्जी संबंधी बीमारी थी.

हेल्थ की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.