नई दिल्ली: फिनाइल या फ्लोर क्लीनर, इनके इस्तेमाल से बच्चे की सेहत पर बुरा असर पड़ता है. ये बात एक नए शोध में सामने आई है.

शोधार्थियों ने दावा किया है कि घरों में साफ-सफाई के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले कीटाणुनाशक और अन्य केमिकल बच्चों में मोटापे की समस्या बढ़ा सकते हैं.

अध्ययन में कहा गया है कि इस तरह के उत्पादों से बच्चों के ‘गट माइक्रोब्स’ (मानव के पाचन तंत्र में रहने वाले सूक्ष्म जीव) में बदलाव आता है. जिससे बच्चों में वजन बढ़ने की प्रक्रिया हो सकती है.

Alert: 2020 तक देश में हार्ट अटैक से मरने वालों की संख्या होगी सबसे ज्यादा

केनेडियन मेडिकल ऐसोसिएशन जर्नल में इस बारे में एक अध्ययन प्रकाशित किया गया है. इस अध्ययन के लिए कनाडा की अल्ब्रेटा यूनिवर्सिटी के शोधार्थियों ने 3-4 महीने की आयु के 757 शिशुओं के ‘गट माइक्रोब्स’ का विश्लेषण किया.

अध्ययन के दौरान घरों में इस्तेमाल किए जाने वाले कीटाणुनाशक, सफाई सामग्री और अन्य पर्यावरण हितैषी उत्पाद के प्रभावों का विश्लेषण करते हुए बच्चों का वजन मापा गया.

अध्ययन में पाया गया कि घरों में कीटाणुनाशकों का ज्यादा इस्तेमाल किए जाने से 3-4 माह की आयु वाले बच्चों के ‘गट माइक्रोब्स’ में बदलाव आया. उन्होंने पाया कि अन्य डिटर्जेंट और सफाई में इस्तेमाल होने वाले उत्पादों का भी बच्चों पर ऐसा ही प्रभाव होता है.
(एजेंसी से इनपुट)