कोलकाता: पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी पुलिस आयुक्तालय के अधिकारियों को दैनिक उपभोग व भोजन में कच्चे सरसों के तेल का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया गया है, क्योंकि इसे एक शीर्ष अधिकारी ने कोविड-19 (कोरोनावायरस) महामारी से लड़ने के लिए एक नया हथियार बताया है. पुलिसकर्मियों को अपने विभिन्न दैनिक उपयोगों में सरसों के तेल का इस्तेमाल बढ़ाने के लिए कहा गया है – जैसे कि घर से बाहर निकलने से पहले सरसों तेल को नथुने में डालें, इसे लइया, आलू चोखा (मसालेदार मसला हुआ आलू) और सलाद में मिलाएं और टिफिन, दोपहर का भोजन या पुलिस कैंटीन में रात के खाने में इस्तेमाल करें. Also Read - कोविड-19 महामारी के बीच विदेशी लीग में खेलने को तैयार कंगारू खिलाड़ी, बड़े नाम भी शामिल

सिलीगुड़ी के पुलिस आयुक्त त्रिपुरारी अथर्व द्वारा जारी एक निर्देश में सभी अधिकारियों से कहा गया है कि कोरोनावायरस से लड़ने के लिए वे अपने भोजन में कच्चा सरसों तेल का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें. सिलीगुड़ी के उपायुक्त (मुख्यालय) नीमा नोरबू भाटिया ने कहा, “यह निर्देश सिलीगुड़ी पुलिस आयुक्तालय क्षेत्र में पुलिसकर्मियों की स्वास्थ्य स्थिति को ध्यान में रखते हुए जारी किया गया है. यह हमारे फ्रंटलाइन कोविड वारियर की सुरक्षा के लिए है. यह वास्तव में प्रभावी उपाय साबित हो रहा है.” Also Read - अमिताभ बच्चन, रेखा और अनुपम खेर के बाद जोया अख्तर का भी घर भी हुआ सील, चिपका पोस्टर

सूत्रों ने कहा कि निर्देश सिलीगुड़ी आयुक्तालय क्षेत्र के अंतर्गत सभी पुलिस स्टेशनों के बीच सर्कुलेट किया गया है. इसमें कहा गया है कि कोविड-19 महामारी की स्थिति में कच्चे सरसों के तेल का सेवन स्वास्थ्य के लिए अच्छा है. Also Read - बिहार: AIIMS- पटना में कोरोना संक्रमण के चलते 2 डॉक्‍टरों ने तोड़ा दम