कोलकाता: पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी पुलिस आयुक्तालय के अधिकारियों को दैनिक उपभोग व भोजन में कच्चे सरसों के तेल का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया गया है, क्योंकि इसे एक शीर्ष अधिकारी ने कोविड-19 (कोरोनावायरस) महामारी से लड़ने के लिए एक नया हथियार बताया है. पुलिसकर्मियों को अपने विभिन्न दैनिक उपयोगों में सरसों के तेल का इस्तेमाल बढ़ाने के लिए कहा गया है – जैसे कि घर से बाहर निकलने से पहले सरसों तेल को नथुने में डालें, इसे लइया, आलू चोखा (मसालेदार मसला हुआ आलू) और सलाद में मिलाएं और टिफिन, दोपहर का भोजन या पुलिस कैंटीन में रात के खाने में इस्तेमाल करें. Also Read - COVID19 Updates: 72 दिन में देश में कोरोना के सबसे कम केस, 24 घंटे में मौंतें बढ़ी, 3921 जानें गईं

सिलीगुड़ी के पुलिस आयुक्त त्रिपुरारी अथर्व द्वारा जारी एक निर्देश में सभी अधिकारियों से कहा गया है कि कोरोनावायरस से लड़ने के लिए वे अपने भोजन में कच्चा सरसों तेल का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें. सिलीगुड़ी के उपायुक्त (मुख्यालय) नीमा नोरबू भाटिया ने कहा, “यह निर्देश सिलीगुड़ी पुलिस आयुक्तालय क्षेत्र में पुलिसकर्मियों की स्वास्थ्य स्थिति को ध्यान में रखते हुए जारी किया गया है. यह हमारे फ्रंटलाइन कोविड वारियर की सुरक्षा के लिए है. यह वास्तव में प्रभावी उपाय साबित हो रहा है.” Also Read - MP: BJP युवा मोर्चा नेता की बर्थडे पार्टी का Viral Video, 10 हजार रुपए फाइन लगा

सूत्रों ने कहा कि निर्देश सिलीगुड़ी आयुक्तालय क्षेत्र के अंतर्गत सभी पुलिस स्टेशनों के बीच सर्कुलेट किया गया है. इसमें कहा गया है कि कोविड-19 महामारी की स्थिति में कच्चे सरसों के तेल का सेवन स्वास्थ्य के लिए अच्छा है. Also Read - FPI Investment: एफपीआई ने जून में भारतीय इक्विटी में किया 15,520 करोड़ रुपये का निवेश