नई दिल्ली: क्या आपको पता है कि आपकी इम्यूनिटी (Immunity) प्रदूषण की वजह से खराब होती है. आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) के कमजोर होने के कारण ही आप बीमारियों के शिकार होते हैं. आपने कभी इस बात पर गौर किया होगा तो आपने यह पाया होगा कि एक जैसे पर्सनालिटी कई लोगों में कुछ ऐसे होते हैं जो आए दिन बीमार होते हैं वहीं अन्य लोग किसी भी मौसम में ठीक रहते हैं. उन लोगों पर मौसम की मार या संक्रमण का कोई असर नहीं होता. आखिर ऐसा क्यों होता है कि कुछ लोग ज्यादा बीमार पड़ते हैं और कुछ लोग हमेशा ठीक रहते हैं? हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता जितनी मजबूत होती है हम उतना ही कम बीमार पड़ते है. कई ऐसे बीमारियां होती हैं जिनसे हमारा शरीर खुद ही निपट लेता है.  आज हम बता रहे हैं ऐसे ही कुछ फूड्स के बारें में जो आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद कर सकते हैं.

हल्दी

हल्दी फायदे से ज्यादातर लोग अंजान होते हैं. यही वजह है कि हम हल्दी का इस्तेमाल सिर्फ मासले के तौर पर खाना बनाने के लिए करते हैं. हल्दी का सेवन करने से आपकी इम्यूनिटी बढ़ती है. हल्दी कई स्वास्थ्य लाभों से भरपूर हैं. इसका सेवन आप दूध के साथ कर सकते हैं. इसकी वजह से आप कई सारी बीमारियों से बचे रहेंगे.

दालचीनी

दालचीनी सिर्फ मसाला मात्र नहीं हैं इसके फायदे जानकर आप चौंक जाएंगे. इसका इस्तेमाल डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के लिए भी किया जाता है. यही नहीं दालचीनी शरीर में रोगों से लड़ने के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने में भी मदद कर सकती है. दालचीनी के सेवन से आपके शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है.

दही

आपको बता दें कि दही के कई फायदे हैं. दही आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार हो सकता है. अगर आप हर दिन खाने के साथ दही का सेवन करते हैं तो इससे कई बीमारियों से बचा जा सकता हैं. अगर आप भी अपनी कमजोर इम्यूनिटी से परेशान हैं तो दही को अपनी डाइट में शामिल करें.

एंटी ऑक्सीडेंट युक्त फल और सब्जियां

अमूमन हम फलों को स्वाद और मूड के हिसाब से खाते हैं. हम जिस फल को खाते हैं कई बार उसकी खासियतों से भी अंजान रहते हैं. आपको बता दें कुछ फल ऐसे होते हैं जो आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने में भी फायदेमंद हो सकते हैं. शरीर में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आपको अमरूद, लीची, कीवी, संतरा नीबू इत्यादि को आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं. ये फल एंटी ऑक्सीडेंट युक्त होते हैं. इसकी वजह से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है.