सूरज की हानिकारक किरणों से स्किन को बचाने या फिर अपनी रंगत बरकरार रखने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला सनस्क्रीन स्किन कैंसर के खतरे को 40 फीसदी तक घटा सकता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, वैश्विक स्तर पर प्रत्येक वर्ष में नॉन-मेलेनोमा त्वचा कैंसर के 20 से 30 मामले और मेलेनोमा त्वचा कैंसर के 1,32,000 मामले सामने आते हैं. Also Read - इन प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने से सफर के दौरान भी खिली-खिली रहेगी आपकी स्किन

erygtruy2 copy Also Read - एक्‍सपर्ट से जानें, गर्मी में कैसे करें SKIN की देखभाल, लगाएं कौन सा सनस्‍क्रीन...

मेलेनोमा के मामले बढ़ते जा रहे हैं. हालांकि मेलानोमा का विकास का मुख्य कारण सूर्य से सीधा संपर्क यानी खुली जगह पर धूप सेंकना और सनबर्न माना जाता है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी में रिसर्च स्कॉलर्स ने कहा, “विशेष रूप से बचपन में मेलानोमा के जोखिम का मुख्य कारण सूर्य की किरणों से सीधा संपर्क और सनबर्न को माना जाता रहा है, लेकिन इस स्टडी से पता चला है कि नियमित रूप से सनस्क्रीन का उपयोग सूर्य के संपर्क के हानिकारक प्रभावों से रक्षा करता है.” Also Read - तेज धूप से हो रहा है सनबर्न, डॉक्‍टर्स से जानें कैसे करें SKIN CARE

rtyruy2 copy

कस्ट ने कहा कि लोगों द्वारा नियमित रूप से सनस्क्रीन लगाना अभी भी मुश्किल है और ऐसा करने की संभावना कई कारकों पर निर्भर करती है. उन्होंने कहा, “संभावित रूप से सनस्क्रीन के नियमित उपयोगकर्ता ब्रिटिश या उत्तरी यूरोपीय महिलाएं और युवा होते हैं या फिर उच्च शिक्षा स्तर वाले लोग, हल्की त्वचा वाले और सनबर्न के सबसे ज्यादा शिकार होने वाले लोग शामिल हैं.”

इस शोध के लिए 18 से 40 साल के बीच के 1,700 लोगों पर सर्वेक्षण किया गया था.