नई दिल्‍ली: अगर आपको स्‍मोकिंग की लत है तो इसका बुरा असर आपके बच्‍चे के स्‍वास्‍थ्‍य पर भी पड़ेगा. खतरा इतना ज्‍यादा है कि बच्‍चे के फेफड़े तक खराब हो सकते हैं. ये बात एक नए शोध में सामने आई है. Also Read - कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान सिगरेट की तस्करी बढ़ी, सतर्कता बढ़ाने की जरूरत: फिक्की समिति

Also Read - Video: भोजपुरी एक्ट्रेस मोनालिसा को है सिगरेट पीने की लत! पापा ने लाने को कहा तब जाके हुआ खुलासा

शोध किया है अमेरिकन कैंसर सोसायटी ने. शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि धूम्रपान करने से वयस्कों में क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) के कारण मृत्यु का जोखिम बढ़ सकता है. Also Read - Pregnancy में स्‍मोकिंग से बच्‍चे की हड्डियों पर होता है ऐसा असर, जो आपकी सोच से परे है

दातुन करने के ये फायदे जानेंगे तो आज ही छोड़ देंगे टूथपेस्‍ट-ब्रश, भूल जाएंगे डेंटिस्‍ट का पता…

Smoking

अध्ययन में पाया गया कि जो लोग अपने बचपन से एक नियमित धूम्रपान करने वाले शख्स के साथ रह रहे हैं, उनमें क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज से मरने का खतरा 31 फीसदी ज्‍यादा होता है.

गोभी खाने से शरीर को मिलते हैं वो फायदे जो ताकत की दवाओं से भी नहीं मिलते…

जबकि धूम्रपान करने वाले व्यक्ति के धुएं के संपर्क में आने वाले नौ फीसदी वयस्कों को मरने का खतरा होता है. इसमें गंभीर हृदय रोग से 27 प्रतिशत अधिक मौत का जोखिम, 23 प्रतिशत को दौरा पड़ने से मौत का खतरा, और सीओपीडी से सबसे अधिक 42 प्रतिशत मौत का खतरा रहता है.

Running Can Help You Quit Smoking: Top 5 Golden Rules of Running

अमेरिकन कैंसर सोसायटी के एपीडेमायोलॉजिस्ट डब्लू. रयान डायवर ने कहा, ‘यह पहला अध्ययन है जिसमें मध्य आयु व उससे कम उम्र में क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पुलमोनेरी डिसिज से धूम्रपान नहीं करने वाले व्यक्ति और बचपन के बीच संबंध के बारे में बताया गया है’.

इस एक मसाले में छिपा है सेक्‍स से जुड़ी हर समस्‍या का समाधान, रोज खाएंगे तो बढ़ेगा रोमांस…

उन्होंने कहा, ‘निष्कर्षों से यह भी पता चला है कि दूसरे व्यक्ति द्वारा धूम्रपान के संपर्क में आने वाले वयस्कों में क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज से मरने का खतरा अधिक होता है’. अध्ययन के लिए टीम में 50 से 74 वर्ष की उम्र के धूम्रपान नहीं करने वाले 70,900 पुरुष और महिलाएं शामिल थीं. अध्ययन के लिए उन पर 22 वर्षो तक नजर रखी गई.

(एजेंसी से इनपुट)

हेल्थ की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.