नई दिल्ली: अब तक आपने ये पढ़ा होगा कि तनाव लेने का सीधा असर स्वास्थ्य पर पड़ता है. पर अब एक नए शोध में ये बात सामने आई है कि इससे आंखों की रोशनी भी कमजोर होती है. Also Read - What are the Symptoms of Coronavirus? क्या फेफड़े से इतर अन्य अंगों को भी खराब कर रहा COVID-19

Also Read - VIDEO: कोरोना का बढ़ता संक्रमण, घर पर रहकर कैसे बचें इस खतरनाक वायरस से, जानिए

ये शोध जर्मनी के मैग्डेबर्ग की ओटो वॉन गुरिके यूनिवर्सिटी में किया गया है. अध्ययन में पता चला है कि निरंतर तनाव से नेत्रों और मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. Also Read - VIDEO: देश में जारी है कोरोना का कहर- जानें क्या है 'हर्ड इम्यूनिटी'?

Work Stress

इस शोध पर हार्ट केअर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. केके अग्रवाल ने कहा, ‘शरीर की तनाव-प्रतिक्रिया प्रणाली आमतौर पर आत्म-सीमित होती है. खतरे या तनाव की वजह से शरीर के हार्मोन का स्तर बढ़ता है और अनुमानित खतरा बीत जाने के बाद सामान्य हो जाता है. निरंतर तनाव की स्थिति में व्यक्ति विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं में घिर जाता है’.

तनाव से स्वास्थ्य पर होने वाले कुछ प्रभावों में चिंता, अवसाद, पाचन समस्याएं, हृदय रोग, अनिद्रा, वजन बढ़ाना और ध्यान केंद्रित करने की समस्याएं शामिल हैं.

लगा है चश्‍मा तो मानसून में इन बातों का रखें ख्‍याल, दूसरों से कभी ना शेयर करें ये चीजें…

तनाव दूर करने के उपाय- 

– कैफीन, शराब, और निकोटीन का सेवन कम करें. कैफीन और निकोटीन उत्तेजक होने से व्यक्ति में तनाव का स्तर बढ़ाते हैं.

Group meditation may cure depression, anxiety and stress-related disorders

– दिन में कम से कम 30 मिनट के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें. यह ना केवल आपको फिट रखेगा, बल्कि तनाव को भी कम करेगा.

-स्वस्थ भोजन और आहार जैसे कि फल, सब्जियां और मल्टी-ग्रेन लें. फलों और सब्जियों में उपलब्ध एंटीऑक्सिडेंट बहुत फायदेमंद हैं.

– गहरी नींद लें. हर दिन कम से कम 7 से 8 घंटे सोएं. नींद की कमी तनाव को बढ़ा सकती है.

– अपना समय अच्छे से मैनेज करें और फालतू काम दूसरों को भी बांटें. सिस्टम को फिर से जीवंत करने के लिए कभी-कभी ब्रेक लेना महत्वपूर्ण है. आपके सिर पर ज्यादा लोड होने से बहुत अधिक तनाव होने की संभावना है.

(एजेंसी से इनपुट)

हेल्थ की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.