नई दिल्ली: दिल्ली के विमहांस नयति सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में 100 किलो के वजन वाली एक इराकी महिला की सफलतापूर्वक दुर्लभ टोटल नी रिप्लेसमेन्ट (टीकेआर) सर्जरी हुई. चिकित्सकों ने बुधवार को इस बात की जानकारी दी. बगदाद की रहने वाली 65 वर्षीय महिला का बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स) 44.5 था और वह चलने फिरने में मुश्किलों व गंभीर कमर दर्द से जूझ रही थी. Also Read - दिल्ली: राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टरों ने की Covishield की मांग, बोले- 'कोवैक्सीन पर भरोसा नहीं'

Also Read - SC ने यमुना नदी में प्रदूषण पर लिया संज्ञान, हरियाणा सरकार से जवाब- तलब किया

Night Shift में लगातार काम करने से DNA संरचना को खतरा, हो सकती है ये बीमारियां Also Read - उत्‍तरी भारत समेत कई राज्‍यों में कुछ दिन तक ठंड और ढाएगी कहर, मौसम विभाग का शीत लहर का अलर्ट जारी

अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक, महिला एडवांस ऑस्टियोआर्थराइटिस (स्टेज 4) से पीड़ित थी, जिसमें मरीज को अपने ज्वाइंट चलाते वक्त दर्द व असहजता महसूस होती है और दैनिक गतिविधियों में बाधा आती है. विमहांस नयति सुपर स्पेशलिटी, इंस्टीट्यूट ऑफ ओथोर्पेडिक्स, स्पोर्ट्स मेडीसिन एंड अथ्रेप्लास्टी के अध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार शर्मा ने कहा कि घुटने के जोड़ों की खराब विकृति, संयुक्त शिथिलता और कमजोर हड्डियों के कारण मरीज बीते 15-20 वर्षो से घुटने में दर्द से जूझ रही थी. इस मामले में अत्याधिक भार होने के कारण महिला की बैक और घुटनों पर ज्यादा दबाव पड़ रहा था, जिससे ज्वाइंट कार्टिलेज तेजी से खराब हो रही थी. वह पांच मिनट से ज्यादा न तो चल सकती थी और न ही खड़ी रह सकती थी.

Health Alerts: गर्भधारण से बढ़ता है दिल की बीमारी का खतरा, Research का दावा

कई चरणों में हुई मरीज की सर्जरी

चिकित्सा विशेषज्ञों ने पाया कि प्रत्येक बीएमआई इकाई के बढ़ने पर कार्टिलेज में 11 फीसदी की तेज कमी की संभावना थी. मरीज में मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसे लक्षण भी थे. मरीज की सर्जरी कई चरणों में की गई. डॉ. शर्मा ने कहा कि क्योंकि मरीज क्लास-3 (उच्च जोखिम) मोटापा श्रेणी में थी, उनके मोटापे ने इसे एक दुर्लभ मामला बना दिया. इतने अधिक बीएमआई के साथ रोगी की टोटल नी आथ्रेप्लास्टी करना लगभग असंभव है क्योंकि वह नियमित परिस्थितियों में किसी भी सुरक्षित सर्जिकल प्रक्रिया को सहन नहीं कर पाता है. इसके अलावा कमजोर हड्डियों ने प्रत्यारोपण की स्थिरता को असहनीय बना दिया.

गैस चैंबर बने महानगरों में खुद को रखना है Healthy तो ये करें उपाय

अब मरीज के दोनों पैर सीधे हैं

इस सर्जरी के लाभ को लंबे समय तक सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सा विशेषज्ञों ने एक मोबाइल बेयरिंग ज्वाइंट का प्रयोग किया है, जो 20 से 25 वर्षो तक चल सकता है. उन्होंने कहा कि इसके अलावा मरीज के बुरी तरह से फैले नी ज्वाइंट अस्थिबंध को ठीक करने और नी ज्वाइंट को संतुलित करने के लिए एक विशेष तकनीक की आवश्यकता थी. हमने ज्वाइंट एनाटॉमी और लिंब अलाइनमेंट को फिर से लगाया. अब, उनके दोनों पैर सीधे हैं और नी ज्वाइंट सही तरीके से काम कर रहे हैं. अब वह आसानी से चल-फिर रही हैं.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें