नई दिल्ली: नए साल में देश को छह नए एम्स सुपरस्पेशलिटी अस्पतालों का तोहफा मिल सकता है. इन छह अस्पतालों में से दो उत्तर प्रदेश, एक पश्चिम बंगाल, एक पंजाब, एक महाराष्ट्र और एक आंध्र प्रदेश में स्थापित किए जाएंगे. उत्तर प्रदेश में रायबरेली व गोरखपुर में दो अलग-अलग एम्स का निर्माण चल रहा है. आंध्र प्रदेश के मंगलगिरी में, महाराष्ट्र के नागपुर, पश्चिम बंगाल के कल्याणी व पंजाब के बठिंडा में इस साल एम्स बनकर तैयार हो जाएंगे.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, वर्ष 2020 में सबसे पहला एम्स उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में शुरू किया जाएगा. यह एम्स करीब 1011 करोड़ रुपये की लागत से बन रहा है. अप्रैल 2020 में गोरखपुर एम्स पूरी तरह कार्यरत हो जाएगा. गोरखपुर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गृह जनपद है.

मंत्रालय के मुताबिक, जून महीने में एम्स रायबरेली व एम्स बठिंडा शुरू किए जाने की योजना है. पिछले सप्ताह ही बठिंडा एम्स में 11 प्रकार की ओपीडी सुविधाएं और जनरल सर्जरी की सुविधा शुरू हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक, एम्स रायबरेली की ओपीडी व आवासीय ब्लॉक भी बनकर पूरी तरह तैयार हैं. इन सभी छह एम्स में से सबसे महंगा एम्स पश्चिम बंगाल के कल्याणी में तैयार किया जा रहा है, जिसकी लागत 1754 करोड़ रुपये है. यह एम्स इसी साल अक्टूबर तक शुरू कर दिया जाएगा.

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के मुताबिक, 1618 करोड़ रुपये की लागत से मंगलगिरी एम्स और 1577 करोड रुपये की लागत से नागपुर एम्स भी इसी साल अक्टूबर से शुरू करने की योजना है. फिलहाल देश में दिल्ली के अलावा छह अन्य स्थानों रायपुर, पटना, जोधपुर, भोपाल, ऋषिकेश और भुवनेश्वर में एम्स अस्पताल काम कर रहे हैं. इस वर्ष छह नए रीजनल एम्स अस्तित्व में आने के बाद देश में इनकी संख्या बढ़कर 12 हो जाएगी. प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार ने कुल 22 एम्स की स्थापना को स्वीकृति दी है.

(इनपुट-आईएएनएस)