Aarogya Setu App: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने कोरोना (Corona Virus) के खिलाफ लड़ाई में प्रयोग किए जा रहे भारत के आरोग्य सेतु एप (Aarogya Setu App) की जमकर सराहना की है.Also Read - PM मोदी 7 दिसंबर को यूपी के गोरखपुर में 9600 करोड़ के प्रोजेक्‍ट्स देश को समर्पित करेंगे, AIIMS का भी उद्घाटन करेंगे

भारत में लोगों द्वारा आरोग्य सेतु ऐप के इस्तेमाल करने को महानिदेशक ने सही बताते हुए कहा कि इससे सार्वजनिक स्वास्थ्य विभागों को कोरोना के संभावित क्लस्टर्स के बारे में पूर्नानुमान लगाने में मदद की और इसी क्रम में कोरोना वायरस के जांच का दायरा भी बढ़ा. ग्रेबेसियस ने कहा कि इसकी मदद से स्वास्थ्य अधिकारियों को कोरोना क्लस्टर का पता लगाने और कोरोना टेस्टिंग करने में बड़ी मदद मिल रही है. Also Read - Digital Infrastructure: 'भारत के डिजिटल पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर सॉल्यूशंस से जीवन में सुधार संभव'

डब्ल्यूएचओ (WHO) प्रमुख गेब्रियेसस ने कहा, ‘भारत में आरोग्य सेतु ऐप को 1 करोड़ पचास लाख लोगों द्वारा डाउनलोड किया गया है और इसकी मदद से शहर के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभागों को उन क्षेत्रों की पहचान करने में मदद मिल रही है, जहां कोरोना के क्लस्टर होने की संभावना है. इसके अलावा आरोग्य सेतु ऐप से एक टारगेटेड तरीके से टेस्टिंग में मदद मिल रही है. Also Read - कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने औषधीय खेती को बढ़ावा देने पर दिया जोर, किसानों की आमदनी बढ़ाने के भी बताए उपाय

बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण के पहले चरण में ही प्रधानमंत्री ने आरोग्य सेतु ऐप को लॉन्च किया था, जिसके बाद इसकी प्राइवेसी को लेकर तरह-तरह की बातें की गई थीं. आरोग्य सेतु ऐप लॉन्च होने के बाद लाखों लोगों ने इसे इंस्टॉल किया था और इससे कोरोना से संबंधित लगातार अपडेट मिलते रहते हैं. जिससे कोरोना क्लस्टर का पता लगाने में मदद मिलती है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस ने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप की ही तरह जर्मनी और अमेरिका में भी ऐप बनाए जा रहे हैं.