बीजिंग: विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने कोविड-19 (Corona Virus) महामारी पर बड़ा बयान देते हुए कहा कि वह दुनिया भर के देशों को 2 अरब से ज़्यादा टीके उपलब्ध करा देगा, लेकिन ये अभी तुरंत नहीं होने जा रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक़ ये टीका 2021 के अंत से पहले दुनिया को मिलेगा. इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बड़ी तैयारी की है.Also Read - UP Unlock News: यूपी में बदले कोरोना से जुड़े नियम, कार्यक्रम कराने से पहले ज़रूर जान लें

डब्ल्यूएचओ की योजना है कि वर्ष 2021 के अंत से पहले विश्व को 2 अरब टीके प्रदान किये जाएंगे और वर्ष 2021 के मध्य के पहले मध्यम व कम आय वाले देशों को 50 करोड़ परीक्षण किट दिये जाएंगे. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया कि अगले 12 महीनों के लिए 3130 करोड़ अमेरिकी डॉलर की जरूरत होगी. अब उसे 340 करोड़ अमेरिकी डॉलर का दान मिला है, लेकिन 2790 करोड़ अमेरिकी डॉलर की जरूरत है. Also Read - COVID-19 Update: कोरोना के 30,773 नए केस आज आए, केरल के 19,325 मामले शामिल, एक्‍ट‍िव मरीजों की संख्‍या घटी

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ट्रेडोस घेब्रेयसस ने बताया कि कोविड-19 महामारी की रोकथाम के लिए अभूतपूर्व गति से संबंधित उपकरणों के विकास की जरूरत है. सभी लोग कोविड-19 के खतरे में हैं, इसलिए सभी लोगों को कोविड-19 की रोकथाम व इलाज के उपकरण प्राप्त करने चाहिए. Also Read - Rajasthan: पिता ने 4 बेटियों को पहले जहर खिलाया, पानी के टैंक में डुबोकर मारा, फिर सुसाइड की कोशिश की

इससे पहले ट्रेडोस घेब्रेयसिस ने कहा था कि वैक्सीन को उपलब्ध कराना और इसे सभी को वितरित करना एक चुनौती होगी. इसके लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है. वर्तमान में 100 से अधिक कोविड-19 वैक्सीन कैंडिडेट डेवलपमेंट के विभिन्न चरणों में हैं. उन्होंने कहा, महामारी ने वैश्विक एकजुटता के महत्व पर प्रकाश डाला है. साथ ही स्वास्थ्य को एक लागत के रूप में नहीं, बल्कि निवेश के रूप में देखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि दुनिया के सभी देशों को प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल और संकट की स्थितियों के लिए अपनी तैयारियों को मजबूत करने पर काम करना चाहिए. उन्होंने विश्व स्तर पर यूरोपीय संघ के नेतृत्व की आवश्यकता पर भी बल दिया.