नई दिल्ली: देश भर में हृदय रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ी है. पर इसमें एक वर्ग युवाओं का भी है. जी हां, पिछले कुछ सालों में 30 से 40 साल के बीच की उम्र के युवा मरीजों की संख्या बढ़ी है.

World Heart Day 2018: किस मुगालते में हैं जनाब! रोज पीएंगे शराब तो दिल की सेहत हो जाएगी खराब…

खराब जीवनशैली और अनियमित आहार के कारण 30 से 40 साल की उम्र के लोगों को दिल संबंधी रोग हो रहे हैं. इसलिए ये जरूरी है के इसके लक्षणों के बारे में ठीक तरह से जाना जाए. पीएसआरआई हार्ट इंस्टीट्यूट के चेयरमैन डॉ. टी.एस. क्लेर का कहना है कि स्वस्थ शरीर के लिए स्वस्थ दिल का होना बहुत जरूरी है. इसलिए दिल के प्रति बिलकुल भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए.

धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल के कार्डियो थोरेसिक एवं वैस्कुलर डायरेक्टर और सर्जन डॉ. मितेश बी. शर्मा का कहना है कि आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर व्यक्ति तनाव से घिरा है. इस बात में कोई दो राय नहीं है की तनाव हृदय घात होने का एक मुख्य कारण है. दोष हमारी दिनचर्या और खानपान का भी है, अधिक मीठा या मसालेदार भोजन, धूम्रपान, शारीरिक गतिविधियों का अभाव हृदय को कमजोर बना रहा है.

World Heart Day 2018: जानें क्या खाएं-क्या नहीं, ऐसा होगा खानपान तो ताउम्र नहीं लगेगी दिल की बीमारी…

हृदय रोगों के लक्षण को बारे में बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट के सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. अमर सिंघल ने कहा कि दिल की बीमारी के शुरुआती लक्षण जिन्हें समय से पहले जान गंभीर दिल की बीमारियों से बचा जा सकता है, वे हैं:

heart attack shutterstock_176855243

– छाती में बेचैनी महसूस होना: यदि आपकी आर्टरी ब्लॉक है या फिर हार्ट अटैक है तो आपको छाती में दबाव महसूस होगा और दर्द के साथ ही खिंचाव महसूस होगा.

– मतली, हार्टबर्न और पेट में दर्द होना: दिल संबंधी कोई भी गंभीर समस्या होने से पहले कुछ लोगों को मितली आना, सीने में जलन, पेट में दर्द होना या फिर पाचन संबंधी दिक्कतें आने लगती हैं.

– हाथ में दर्द होना : कई बार दिल के रोगी को छाती और बाएं कंधे में दर्द की शिकायत होने लगती है। ये दर्द धीरे-धीरे हाथों की तरफ नीचे की ओर जाने लगता है.

World Heart Day 2018: दिल की बीमारी IHD के सबसे ज्यादा शिकार भारतीय, जल्दी पकड़ में नहीं आता रोग, जानें लक्षण…

– कई दिनों तक कफ होना : यदि आपको काफी दिनों से खांसी-जुकाम हो रहा है और थूक सफेद या गुलाबी रंग का हो रहा है तो ये हार्ट फेल का एक लक्षण है.

– सांस लेने में दिक्कत होना: सांस लेने में दिक्कत होना या फिर कम सांस आना हार्ट फेल होने का बड़ा लक्षण है.

– पसीना आना : सामान्य से अधिक पसीना आना खासतौर पर तब जब आप कोई शारीरिक क्रिया नहीं कर रहे तो ये आपके लिए एक चेतावनी हो सकती है.

– पैरों में सूजन : पैरों, टखनों, तलवों और एंकल्स में सूजन आने का मतलब ये भी हो सकता है कि आपके दिल में रक्त का संचार ठीक से नहीं हो रहा है.

World Heart Day 2018: क्यों भारत में बढ़ रहे हैं हृदय रोगी, किस तरह करें दिल की हिफाजत?

– चक्कर आना या सिर घूमना: कई बार चक्कर आने, सिर घूमने, बेहोश होने, बहुत थकान होने जैसे लक्षण भी एक चेतावनी है.

इससे बचाव पर डॉ. अमर सिंघल ने कहा, ‘तनाव से बचें, एक्सरसाइज करके भी दिल का ख्याल रखा जा सकता है. इसके लिए नियमित तौर पर एक्सरसाइज करनी होगी. दिल से संबंधित किसी भी एक्सरसाइज के लिए डॉक्टर की सलाह भी जरूरी है’.

World Heart Day
लोगों को इस संबंध में जागरुक करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन हर साल 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस मनाता है.

लाइफस्टाइल की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.