नई दिल्ली: विश्व शाकाहार दिवस, प्रतिवर्ष 1 अक्टूबर को पूरे विश्व में मनाया जाता है. यह 1977 में उत्तरी अमेरिकी शाकाहारी समाज का स्थापना दिवस है और 1978 में अंतर्राष्ट्रीय शाकाहारी संघ द्वारा “शाकाहार से खुशी, करुणा और जीवन-वृद्धि की संभावनाओं को बढ़ावा देने” के लिए इसका समर्थन किया था, यह शाकाहारी जीवन शैली के नैतिक, पर्यावरणीय, स्वास्थ्य और मानवीय लाभों के बारे में जागरूकता लाता है.

मुख्य रूप से भोजन के दो प्रकार होते हैं, शाकाहारी और मांसाहारी. इंसान का शरीर दोनो तरह के भोजन को पचाने की क्षमता रखता है. कुछ लोगों का मानना है कि मांसाहारी भोजन में ज्यादा पोषक तत्व मिलते हैं. लेकिन आपको बता दें कि मांसाहारी भोजन में जो तत्व मांस खाने से मिलता है ठीक वैसे ही शाकाहारी भोजन में शाक-सब्जियों में मिलता है. मांसाहारी भोजन के अपेक्षा शाकाहारी भोजन जल्द पच जाता है.

विश्व शाकाहारी दिवस का इतिहास

विश्व शाकाहारी दिवस यानि वर्ल्ड वेगन डे 1 अक्टूबर, 1977 में पहली बार यूके वेगन सोसाइटी ने मनाया था. साल 1944 में वेगन सोसायटी की स्थापना हुई थी. जिसकी 50 वीं वर्षगांठ पर वेगन सोसायटी के अध्यक्ष ने अक्टूबर की पहली तारीख को यादगार बनाने और लोगों में शाकाहारी आहार को बढ़ावा देने के उद्देश्य से वेगन दिवस को हर साल मनाने की घोषणा की.

वेगन डे मनाने का एक कारण भेदभाव भी था. क्योंकि उस समय वेगंस को डेयरी उत्पादों का उपभोग करने की अनुमति नहीं थी. जिसके विरोध में उन्होंनें अंडे का सेवन बंद कर दिया और फिर 1951 में ये एक शाकाहारी आंदोलन बन गया है. जो जानवरों के शोषण में हिस्सा नही लेते थे. तब से हर साल 1 अक्टूबर को पूरी दुनिया में शाकाहार को प्रोत्साहित करने के लिए जागरुकता अभियान चलाए जाते हैं.

शाकाहारी भोजन के फायदे

– शाकाहारी भोजन हृदय रोग और कैंसर के ख़तरे को कम करता है. .शुद्ध शाकाहारी भोजन करने वाले लोगों में हृदय से संबंधित रोग होने की संभावना कम 30% कम होती है.

– शाकाहारी खाना हल्का होता है. यह अन्य भोजनों की तुलना में जल्दी पच जाता है. शाकाहारी भोजन मस्तिष्क को सचेत रखते हुए उसे बुद्धिमान बनाता है. इस तरह के भोजन करने से व्यक्ति तरोताजा महसूस करता है .

– शाकाहारी खाना खाने वाले लोगों को हाई ब्लड प्रेशर का खतरा काफी कम होता है. क्योंकि ऐसे भोजन में कॉम्लेक्स क्राबोहाइड्रेट की मात्रा ज्यादा होती है और इसके साथ ही शारीरिक स्थूलता भी कम होती है.

– शाकाहारी आहार में साबुत अनाज, मेवा, फल एवं सब्जियां शामिल हैं, जो कि रेशा, एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन के साथ-साथ आवश्यक खनिज पदार्थों की पूर्ति भी करते हैं.

– शाकाहारी भोजन से वजन कम करने में मदद मिलती है. अगर आप रोजाना दिन में 3-4 बार थोड़ा थोड़ा फल,सब्जियां, अनाज और सूखे मेवे का संतुलित मात्रा में सेवन करते हैं, तो इससे आप कुछ ही दिनों में अपने बढ़ते वजन को नियंत्रित करते हुए कम कर सकते हैं.