अहमदाबाद: कृषि से जुड़े नए कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान सोमवार को गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा सहित लगभग 100 कार्यकर्ताओं को गांधीनगर में पुलिस ने हिरासत में ले लिया. सोमवार सुबह चावड़ा, विपक्ष के नेता परेश धनानी, कांग्रेस विधायक बलदेवजी ठाकोर, सी जे चावड़ा और अन्य पार्टी कार्यकर्ता विधानसभा परिसर के पास अंबेडकर प्रतिमा पर एकत्र हुए और केंद्र और गुजरात में भाजपा की अगुवाई वाली सरकारों के खिलाफ नारे लगाए. Also Read - Madhya Pradesh by-election: चुनाव आयोग ने कमलनाथ से छीना स्टार प्रचारक का दर्जा, उनकी रैलियों के लिए प्रत्याशी को अपनी जेब से देना होगा खर्चा

उन्होंने दावा किया कि हाल ही में संसद द्वारा पारित कृषि विधेयक किसान विरोधी हैं और एपीएमसी को नष्ट कर देंगे. गौरतलब है कि संसद से पारित इन विधेयकों को राष्ट्रपति की मंजूरी मिल गई है और ये अब कानून बन गए. गजट अधिसूचना के अनुसार राष्ट्रपति ने जिन तीन विधेयकों को मंजूरी दी, वे हैं- किसान उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक 2020, किसान (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) मूल्य आश्वासन अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक 2020. Also Read - फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भोपाल में मुस्‍लिमों का प्रदर्शन, कांग्रेस विधायक समेत कई पर केस दर्ज

बाद में, पुलिस ने राज्य कांग्रेस प्रमुख, धनानी, विधायक ठाकोर, सी जे चावड़ा और अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया. पुलिस अधीक्षक एम के राणा ने कहा कि लगभग 100 प्रदर्शनकारियों को राजभवन की ओर जाते समय हिरासत में लिया गया. पुलिस अधीक्षक मयूर चावड़ा ने कहा, ‘ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रैली के लिए कोई अनुमति नहीं ली थी, इसलिए हमने उन्हें हिरासत में लिया. हम बाद में उनकी रिहाई के बारे में फैसला करेंगे.’ Also Read - मध्य प्रदेश उपचुनाव: कमल नाथ का शिवराज पर तंज- अपने क्षेत्र का विकास न कर पाने वाला प्रदेश की तस्वीर क्या बदलेगा, मेरे क्षेत्र को देखो