नई दिल्‍ली: आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गुरुवार को एक केमिकल रिसाव के चलते फैक्‍ट्री में अलसुबह हुए हादसे में लगभग 1000-1500 लोगों को बचाया गया. गैस के प्रभाव में आए करीब 800 लोगों को अस्‍पताल पहुंचाया गया. ताजा अपडेट्स के मुताबिक इस हादसे में अभी तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है. Also Read - Coronavirus Latest Update: भारत में 1 दिन में रिकॉर्ड संक्रमित मरीज, 9971 नए मामले, 2 लाख 46 हजार पहुंची संक्रमितों की संख्या

राष्‍ट्रीय आपदा त्‍वरित बल (National Disaster Response Force) के डायरेक्‍टर जनरल एसएन प्रधान ने बताया कि स्‍थानीय लोगों ने गले, त्‍वचा में तकलीफ और कुछ जहरीले इंफेक्‍शन की शिकायत दर्ज की.इसके बाद पुलिस और प्रशासन हरकत में आया. लगभग 1000-1500 लोगों को घटनास्‍थल से निकाला गया और जिनमें से करीब 800 लोगों को अस्‍पताल पहुंचाया गया. Also Read - गंजे पुरुषों में कोरोना का बढ़ रहा है ज्यादा खतरा!, शोधकर्ताओं ने किया खुलासा, जानें क्या कहती है रिसर्च

विशाखापत्तनम के आरआर वेंकटपुरम गांव में आज स्टाइरीन गैस रिसाव के बाद एक बच्चे सहित कम से कम 8 लोग मारे गए हैं और लगभग 120 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इसमें 20 अधिक लोगों की हालत गंभीर है.

डीजी ने बताया कि एनडीआरएफ की टीम में करीब 27 शामिल रहे हैं. ये लोग इंडस्‍ट्रियल लीकेज से निपटने में एक्‍सपर्ट हैं.

आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) प्रमुख ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान विशाखापत्तनम में बंद पड़ी प्लास्टिक की एक फैक्ट्री में काम-काज पुन: शुरू करने की तैयारी हो रही थी कि इसी दौरान गैस रिसाव की घटना हुई. एनडीआरएफ महानिदेशक एस एन प्रधान ने बताया कि देर रात करीब ढाई बजे स्टाइरीन गैस का इलाके में रिसाव होने के कारण 80 से 100 लोगों को अस्पताल में भर्ती किया गया है.

एनडीआरएफ) प्रमुख ने कहा कि बल की एक विशेष टीम घटनास्थल पर पहुंच गई है और बेचैनी की शिकायत करने वाले लोगों की जांच कर रही है. प्रधान ने बताया कि यह स्टाइरीन गैस है, जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र, गले, त्वचा, आंखों और शरीर के कुछ अन्य अंगों को प्रभावित करती है. उन्होंने कहा, हमें लगता है कि प्लास्टिक की इस फैक्ट्री में काम-काज फिर से आरंभ किया जा रहा था और किसी दुर्घटना के बाद गैस का रिसाव हुआ.

अधिकारियों के मुताबिक, गैस रिसाव ने संयंत्र के 5 किलोमीटर के दायरे में स्थित गांवों को प्रभावित किया है. मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी घटना पर करीब से निगाह रख रहे हैं. रेड्डी ने जिंदगियां बचाने और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए हरसंभव कदम उठाने के लिए जिले के अधिकारियों से कहा है. उनके कार्यालय ने ट्वीट किया कि मुख्यमंत्री विशाखात्तनम में किंग जॉर्ज अस्पताल जाएंगे जहां बीमारों का इलाज चल रहा है.

दक्षिण कोरिया की कंपनी एलजी पॉलिमर्स पॉलीस्टीरीन और कई कामों में आने वाला प्लास्टिक बनाती है जिसका इस्तेमाल अलग अलग तरह के उत्पाद बनाने में होता है जैसे खिलौने. यह फैक्‍ट्री 1961 से संचालित है.