उदयपुर: उदयपुर के गोवर्धन विलास थाना क्षेत्र के दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले एक स्टूडेंट ने मंगलवार (22 मई, 2018) को आने वाले रिजल्ट से डर कर अपने ही अपहरण का प्लान बना लिया. उसने अपना मोबाइल बंद किया और किसी जगह चला गया. उसने वहां से किसी अन्य नंबर से अपने पिता को कॉल किया कि उनका बेटा किडनैप हो गया है. बेटे को बचाने के लिए 50 लाख रुपए देने होंगे. उसने कॉल करने में आवाज़ में पहचानी जाए इसके लिए मुंह पर रूमाल बांध लिया.

कॉल आने पर पिता ने दी पुलिस को सूचना
जिला पुलिस अधीक्षक राजेन्द्रप्रसाद गोयल ने बताया कि गोवर्धन विलास के सेक्टर 14 निवासी राजेश कुमार पांडे का 10वीं में पढ़ने वाला बेटा शनिवार को दूधतलाई जाने के लिए घर से निकला लेकिन वह वहां नहीं पहुंचा. परिजनों ने उसके मोबाइल पर फोन किया तो वह बंद आया. रविवार सुबह पिता राजेश के फोन पर एक कॉल आया, जिसमें कहा गया कि उनके बेटे का अपहरण कर लिया गया है और उसे छुड़ाना चाहते हैं तो 50 लाख रुपए देने होंगे. इस पर पिता राजेश ने तुरंत पुलिस को सूचना दी.

दिल्ली से मुंह पर रुमाल बांधकर किया फ़ोन
गोयल ने बताया कि पुलिस दल ने आज नसीराबाद के पास ट्रेन में तलाशी के दौरान उक्त किशोर को बरामद कर लिया और उदयपुर लेकर आई. उन्होंने बताया कि पूछताछ से यह बात सामने आई कि उक्त किशोर कल आने वाले 10वीं के परीक्षा परिणाम से डरकर अकेला ही ट्रेन से दिल्ली चला गया. वहां उसने मुंह पर रुमाल बांधकर आवाज बदलकर अपहरणकर्ता के रूप में बात कर अपने पिता से फिरौती की मांग की तथा अपहरण का नाटक रचा. जब पिता ने अपने बेटे से बात करवाने के लिये कहां तो रुमाल हटाकर रोने का नाटक किया. इस तरह पुलिस ने अपहरण की साजिश का पर्दाफाश किया.