नई दिल्‍ली/अमरावती: आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले में रविवार को दोपहर में गोदावरी नदी में एक पर्यटन नौका पलटने से कई लोगों के डूबने की आशंका है अब तक 11 लोगों की मौत होने की खबर है. पुलिस सूत्रों ने बताया कि आंध्र प्रदेश पर्यटन विकास निगम द्वारा संचालित नौका पर करीब 61 लोग सवार थे, जिनमें चालक दल के करीब 11 सदस्य भी शामिल हैं. अब तक 23 लोगों को बचाया गया है. बोर्ड में शामिल 11 लोग चालक दल के सदस्य थे. मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने मृतकों के परिवारों को 10-10 लाख रुपए की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है.

बता दें कि भोपाल में गणेश चतुर्थी समारोह के दौरान नाव पलटने से 11 लोगों की जान चली जाने के दो दिन बाद यह घटना सामने आई है. सूत्रों ने बताया कि नौका कच्चुलुरु के पास पलट गई. मुख्य सचिव ने बताया कि दुर्घटना के पीड़ितों का पता लगाने के लिए एक हेलि‍कॉप्टर की सेवा ली जा रही है.

गोदावरी नदी पिछले कुछ दिनों से पूरे उफान पर है. पूर्वी गोदावरी जिला पुलिस अधीक्षक अदनान अस्मी ने कहा, ”हम विस्तृत
जानकारी जुटाने की कोशिश कर रहे हैं.” पिछले कुछ दिनों से नदी अचानक बाढ़ के कारण बह गई थी. रविवार को, जब दुर्घटना हुई, तो उसमें 5.13 लाख क्यूसेक से अधिक बाढ़ का पानी था. खबरों के अनुसार, आंध्र प्रदेश पर्यटन विकास निगम (APTDC) द्वारा चलाई जाने वाली नाव, देवीकोट्टनम के पास देवीपटनम के पास, पपीकोंडालू के लिए जा रही थी, जो एक प्रमुख पर्यटन स्थल है और कछुलुरु के पास स्थित है.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी ने प्रभावित जिले में सभी उपलब्ध मंत्रियों को बचाव कार्यों की निगरानी करने का निर्देश दिया है. राज्य सरकार ने तत्काल प्रभाव से सभी यात्री और पर्यटक नौकाओं को रोकना भी बंद कर दिया है. इसने सभी नावों के परमिट, लाइसेंस, सुरक्षा उपायों की जांच के आदेश दिए हैं.

इस बीच, मुख्य सचिव एल.वी. सुब्रह्मण्यम ने पूर्वी गोदावरी के जिला कलेक्टर मुरलीधर रेड्डी को निर्देश दिया है कि दुर्घटना के बाद लापता हुए लोगों का पता लगाने के लिए एक हेलीकॉप्टर तैनात किया जाए. दो राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), जिसमें प्रत्येक में 30 सदस्य शामिल हैं, को भी बचाव कार्यों के लिए भेजा गया है.