नई दिल्लीः पश्चिमी दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमित एक व्यक्ति के परिवार के सात सदस्यों समेत कुल 11 लोगों को उनके आवास पर पृथक रखा गया है. स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि उस व्यक्ति ने थाईलैंड की यात्रा की थी जिसके बाद उसके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. Also Read - COVID-19: गाजियाबाद में कोरोना के 10 नए मामले, जिले में संक्रमित लोगों की संख्या 23 हुई

इस 25 वर्षीय व्यक्ति ने मलेशिया की भी यात्रा की थी. नमूनों की जांच के बाद वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया. इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस के पुष्ट मामलों की संख्या तीन हो गई है. संक्रमित व्यक्ति पश्चिमी दिल्ली का रहने वाला है. उस क्षेत्र के 50 घरों पर भी नजर रखी जा रही है. Also Read - लॉकडाउन: दिल्ली में बिना राशन कार्ड वालों को भी मिलेगा 5 किलो राशन, केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला

दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा, ‘‘रोगी की पत्नी, माता-पिता, भाई, भाभी और उनके दो बच्चों को पृथक रखा गया है. जांच के लिए उनके रक्त के नमूने लिए गए हैं.’’ व्यक्ति का कार्यालय गुड़गांव में है लेकिन वह अपने आवास से काम कर रहा था. उसे इलाज के लिए सफदरजंग अस्पताल में रखा गया है. Also Read - प्रियंका गांधी ने योगी सरकार के लिए सुबह किया Tweet, शाम तक 26 हेल्थ वर्कर्स को फिर मिली नौकरी

अधिकारी ने कहा, ‘‘रोगी, उसकी पत्नी, भाई और भाभी घर से काम करते थे.’’ उसके संपर्क में चार अन्य लोगों को भी उनके आवास पर पृथक रखा गया है और उनकी भी जांच की गई है. उन्होंने कहा कि वे अन्य लोगों का पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं जो उसके संपर्क में आए थे.

पेटीएम के एक कर्मचारी के भी कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. वह भी पश्चिमी दिल्ली का निवासी है. उसके संपर्क में आए 95 लोगों का पता लगा लिया गया है, इनमें से 22 लोग दिल्ली से हैं और उन्हें उनके आवास पर पृथक रखा गया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत में अभी तक 31 लोगों में कोरोना वायरस का संक्रमण की पुष्टि हुई है.