हैदराबाद: तेलंगाना में कांग्रेस के 18 में से दो- तिहाई विधायकों के सत्तारूढ़ टीआरएस में शामिल होने के एक दिन बाद राज्य में मुश्किल स्थिति का सामना कर रही कांग्रेस ने कहा है कि वह सोमवार को उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगी. कांग्रेस ने अपने 12 विधायकों के समूह के टीआरएस में विलय को सही ठहराने के विधानसभा अध्यक्ष के फैसले के खिलाफ राज्यव्यापी प्रदर्शन करने की भी शुक्रवार को घोषणा की.

कांग्रेस को बड़ा झटका, पार्टी को छोड़ तेलंगाना के 12 विधायक टीआरएस के साथ

पार्टी ने आरोप लगाया कि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने उसके विधायकों को खरीदा है. उन्होंने कहा कि वह लोकपाल के पास जाएगी और आगामी संसद सत्र में भी इस मुद्दे को उठाएगी. तेलंगाना के विभिन्न भागों में शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी ने ऐलान किया कि विधानसभा में विपक्ष के नेता मल्लू भट्टी विक्रमार्का शनिवार पूर्वाह्न 11 बजे से यहां 36 घंटे का अनशन करेंगे. उन्होंने कहा कि कांग्रेस शनिवार से राज्य में धरना प्रदर्शन करेगी.

वीरप्पा मोइली ने राहुल गांधी से कहा- जिम्मेदारी संभालिये, खत्म करिए कांग्रेस में फैला असंतोष

गौरतलब है कि एक नाटकीय घटनाक्रम के तहत, तेलंगाना विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीनिवास रेड्डी ने बृहस्पतिवार को कांग्रेस के 12 विधायकों को टीआरएस के सदस्य के रूप में मान्यता दे दी थी. उत्तम कुमार रेड्डी ने शुक्रवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि पार्टी अपने विधायकों के विलय के खिलाफ तेलंगाना उच्च न्यायालय में सोमवार को याचिका दायर करेगी.

राहुल गांधी का भाजपा पर हमला, कहा – प्यार से देंगे नफरत का जवाब

उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय में (विधायकों के दलबदल के संबंध में) एक याचिका पहले से विचाराधीन है और सोमवार को हम एक अन्य याचिका दायर करेंगे तथा 11 जून को हमारी पिछली याचिका सुनवाई के लिए रखी जाएगी. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने वारंगल, करीमनगर तथा अन्य स्थानों पर प्रदर्शन किया और टीआरएस में शामिल हुए 12 विधायकों का विरोध किया.

मध्यप्रदेश में कौन बनेगा कांग्रेस का अध्यक्ष, रेस में आगे आए कई नाम तो शुरू हुई उठा-पटक