नई दिल्ली: भारतीय रेलवे ने ऐसे 13,000 कर्मचारियों की पहचान की है जो लंबे समय से ‘अनाधिकृत’ रूप से अनुपस्थित चल रहे हैं. इन कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त करने की अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की गई है. यानी उन्हें नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा. रेलवे ने बयान में कहा है कि मंत्रालय ने संगठन का प्रदर्शन बेहतर करने और निष्ठावान व मेहनती कर्मचारियों का मनोबल बढ़ाने के लिए एक अभियान शुरू किया था. यह कार्रवाई इसी अभियान का हिस्सा है. Also Read - ट्रेन से कटकर हुई की हाथी और उसके बच्चे की मौत, वन विभाग ने जब्त किया रेल इंजन

इसके अनुसार, ‘रेलवे के विभिन्न प्रतिष्ठानों में लंबे समय से अनुपस्थित कर्मचारियों की पहचान करने के लिए एक व्यापक अभियान शुरू किया गया. इस अभियान के परिणाम में रेलवे ने अपने लगभग 13 लाख कर्मचारियों में से 13 हजार से भी अधिक ऐसे कर्मचारियों की पहचान की है जो लंबे समय से अनाधिकृत तौर पर अनुपस्थित हैं।’ रेलवे ने इन अनुपस्थित कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त करने के लिए नियमों के तहत अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की है. Also Read - IRCTC/Indian Railway: ट्रेनों में अब नहीं मिलेगा खाना? जानें क्या है रेलवे की योजना

रेलवे ने सभी अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को उचित प्रक्रिया पर अमल के बाद कर्मचारियों की सूची से इनका नाम हटाने का निर्देश दिया है. Also Read - Indian Railway: दीवाली-छठ से पहले कर्नाटक से चलाई जाएंगी 22 जोड़ी स्पेशल ट्रेनें, जानें रूट्स और टाइमिंग