गंगटोक: सिक्किम के हिमाच्छादित पर्वतों पर बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए एक नया धार्मिक स्थल तैयार किया गया है जिसमें चेनरेजिग की 137 फुट ऊंची प्रतिमा लगाई गई है. यह स्थल एक नवंबर से पर्यटकों के स्वागत के लिए तैयार हो जाएगा. सिक्किम के एक मंत्री ने यह जानकारी दी. Also Read - Indian Army ने मुसीबत में फंसे 3 चीनियों बचाया, PLA ने अरुणाचल से 5 भारतीयों का अपहरण किया

Also Read - Lockdown Extension News: सिक्किम में कोरोना से हुई पहली मौत, सरकार ने इस तारीख तक के लिए बढ़ाया लॉकडाउन

सिक्किम सरकार के मुताबिक पश्चिम सिक्किम के पेलिंग में बने तीर्थ स्थल में 7200 मीटर की ऊंचाई में चेनरेजिग की अब तक की सबसे बड़ी प्रतिमा लगाई गई है. अवलोकितेश्वर अथवा चेनरेजिग शाश्वत बुद्ध ‘अमिताभ’ की पृथ्वी पर अभिव्यक्ति मानी जाती है. पर्यटन मंत्री यूगेन टी ग्यात्सो ने कहा कि सिक्किम को बौद्ध तीर्थस्थल के रूप में प्रचार प्रसार करने की सरकारी नीति के तहत पेलिंग में संघ चिंओलिंग पर 46.65 करोड़ रूपए की लागत से एक डेस्टिनेशन पार्क बनाया गया है. Also Read - Weather Alert: देश के कई राज्‍यों में छाए बादल, कहीं-कहीं भारी बारिश की चेतावनी

ऐतिहासिक पल का गवाह बनाने के लिए यूपी के लोगों को गुजरात ले जाएगी ‘यूनिटी ट्रेन’

सिक्किम को ‘शिंगखम’ बनाने का विचार

मुख्यमंत्री पवन चामलिंग के कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि सिक्किम को ‘शिंगखम’ बनाने का विचार मुख्यमंत्री का है. इसका मतलब होता है स्वर्ग. उन्होंने कहा कि बौद्ध मान्यता है कि कोई भी वेदी भगवान बुद्ध, गुरु पद्मसंभव और चेनरेजिग की प्रतिमा के बिना अधूरी है.