नई दिल्ली. देश में मकान की कीमतें इस समय ग्राहकों की जेब के हिसाब से 15 साल के सबसे मुनासिब स्तर पर हैं. संपत्तियों की कीमत में कमी और परिवारों की बढ़ आय बढ़ने का भी इसमें योगदान रहा है. यूबीएस ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी. यूबीएस की रिपोर्ट के अनुसार , मध्यावधि में आवासीय संपत्तियों की बिक्री में क्रमिक सुधार होने की संभावना है.

रिपोर्ट में कहा गया, ‘हमें लगता है कि भारत का आवासीय रीयल इस्टेट क्षेत्र मांग में क्रमिक सुधार के मुहाने पर खड़ा है. इस समय मकान की कीमतें 15 साल में सबसे मुनासिब स्तर पर हैं. अगले एक से तीन साल के बीच संपत्तियों की कीमत बढ़ने की उच्च संभावना, आय में वृद्धि और नए नियमनों पर अमल से खरीदारों का भरोसा बढ़ा रहा है.’

रिपोर्ट में कहा गया कि प्रौद्योगिकी शहरों में वित्तवर्ष 2018-19 से 2019-20 के दौरान कार्यालयों के किराये में 5-7 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान है.