नई दिल्ली: एन के सिंह की अध्यक्षता में गठित 15वां वित्त आयोग (Finance Commission) अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है. आयोग को 2021-26 के लिए अपनी रिपोर्ट 30 अक्टूबर, 2020 तक सरकार को सौंपनी है. Also Read - 'विशेष' पर फिर गरमाई बिहार की सियासत, भाजपा-जदयू के अलग-अलग रुख

रिपोर्ट को अंतिम रूप देने से पहले 15वें वित्त आयोग के चेयरमैन एन के सिंह ने बुधवार को पूर्व वित्त आयोग के प्रमुखों के साथ बैठक की. यह बैठक ऐसे समय हुई है, जब आयोग अपनी सिफारिशों को लेकर विचार-विमर्श को लेकर प्रक्रिया पूरी कर चुका है और अंतित रिपोर्ट देने की तैयारी में है. Also Read - अविश्वास प्रस्ताव: अन्नाद्रमुक पर राजग से सांठगांठ का द्रमुक ने लगाया आरोप

आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार वीडियो कांफ्रेन्स के जरिए हुई शिष्टाचार बैठक में आयोग के अन्य सदस्य भी शामिल हुए.
बयान के अनुसार, ‘‘15वें वित्त आयोग के चेयरमैन सिंह और अन्य सदस्यों ने 12वें और 13वें वित्त आयोग के चेयरमैन क्रमश: सी रंगराजन और डा. विजय केलकर के साथ बैठक की.” Also Read - नोटबंदी के बाद अब विशेष दर्जे का मुद्दा, क्या नीतीश का बीजेपी से होने लगा मोहभंग?

सिंह ने बैठक में कहा, ”यह पिछले 20 वर्षों में हमारे संघीय इतिहास का प्रतिनिधित्व है ….”

15वें वित्त आयोग को 2021-26 के लिए अपनी अंतिम रिपोर्ट 30 अक्टूबर, 2020 तक उपलब्ध करानी है. आयोग अपना काम पूरा करने के लगभग करीब है.

पूर्व वित्त अयोग के प्रमुखों ने कहा कि कोविड-19 के कारण जिस कड़ी चुनौती के बीच मौजूदा आयोग ने काम किया वह सराहनीय है. कोविड-19 संकट के कारण आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई हैं और उसका प्रतिकूल असर केंद्र एवं राज्य सरकारों की राजकोषीय स्थिति पर पड़ा है.

बयान के अनुसार, ” बैठक में 15वें वित्त आयोग के चेयरमैन और सदस्यों ने पूर्व वित्त आयोग के प्रमुखों की सोच और कामकाज तथा उनके साथ विचार-विमर्श से विभिन्न पहलुओं के बारे में जो स्पष्ट जानकारी और सोच मिली, उसको लेकर आभार जताया.”